खलारी  

खलारी छत्तीसगढ़ के ऐतिहासिक स्थानों में से एक है। पहले यह मध्य प्रदेश के अंतर्गत आता था। 14वीं शती में रतनपुर के कलचुरी नरेशों की एक शाखा खलारी में राज्य करती थी।[1]

  • कलचुरी वंश के नायक सिंहा ने 14वीं शती में अपनी राजधानी रायपुर में बनाई थी।
  • नायक सिंहा के पौत्र ब्रह्मदेव का एक शिलालेख खलारी से प्राप्त हुआ था, जिसकी तिथि 1401 ई. है। यह अभिलेख 'नागपुर संग्रहालय' में सुरक्षित है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 254 |
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=खलारी&oldid=299772" से लिया गया