अनिल धस्माना  

अनिल धस्माना
अनिल धस्माना
पूरा नाम अनिल धस्माना
अभिभावक पिता- महेशानंद धस्माना
नागरिकता भारतीय
पद रिसर्च एण्ड एनालिसिस विंग' (रॉ) के सचिव
विशेष योगदान अनिल धस्माना के नेतृत्व में ही मध्य प्रदेश के इंदौर शहर से आतंक और माफिया राज के खात्मे के लिए 'ऑपरेशन बंबई बाज़ार' चलाया गया था।
संबंधित लेख रिसर्च एण्ड एनालिसिस विंग, अजीत डोभाल
अन्य जानकारी अनिल धस्माना का 1981 में आईपीएस में चयन हुआ था। उसके बाद वे मध्य प्रदेश पुलिस में कई पदों पर रहे और फिर रॉ में शामिल हो गए।

अनिल धस्माना (अंग्रेज़ी: Anil Dhasmana) भारतीय खुफिया एजेंसी 'रिसर्च एण्ड एनालिसिस विंग' (रॉ) की कमान सम्भालने वाले नवनियुक्त मुखिया हैं। वर्ष 1981 में उनका आईपीएस में चयन हुआ था। उसके बाद वे मध्य प्रदेश में पुलिस में कई पदों पर रहे और फिर रॉ में शामिल हुए। रॉ के वर्तमान चीफ़ राजिंदर खत्री 31 जनवरी, 2017 को अपना दो वर्षीय कार्यकाल पूर्ण करेंगे, जिसके बाद अनिल धस्माना कार्यभार संभालेंगे।

परिचय

तेज तर्रार अफ़सर अनिल धस्माना उत्तराखंड के एक साधारण परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पिता महेशानंद धस्माना सिविल एविएशन विभाग में काम करते थे। चार बेटे और तीन बेटियों के भरे-पूरे परिवार के साथ बाद में वह दिल्ली में बस गए। अनिल का बचपन शहर की चकाचौंध से दूर पहाड़ के एक दूरदराज गांव में बीता। छोटे से गांव से लेकर रॉ प्रमुख तक का सफर तय करने वाले आईपीएस अनिल धस्माना की उपलब्धियों पर उनके गांव वाले भी गर्व का अनुभव करते हैं। ऋषिकेश से 70 किलोमीटर दूर भागीरथी और अलकनंदा के संगम देवप्रयाग से अनिल धस्माना के गांव का रास्ता शुरू होता है। देवप्रायग से उनका तोली गांव 50 किलोमीटर दूर है। अनिल धस्माना की चाची और उनका परिवार आज भी तोली गांव में ही रहता है।[1]

अनिल धस्माना की चाची भानुमति बताती हैं कि- "बचपन में अनिल उनके साथ जंगल में घास और पानी लेने जाते थे। साथ ही घर के सारे कामों में अपनी दादी का हाथ बंटाया करते थे। अनिल धस्माना का बचपन गांव में काफ़ी कठिनाइयों से गुजरा। चार भाई और तीन बहनों में अनिल सबसे बड़े थे। शुरुआती जिंदगी में काफ़ी तंगी और मुश्किलें झेलने वाले अनिल सिर्फ मेहनत के बल पर ही आगे बढ़ते रहे। अपने पुश्तैनी मकान के जिस छोटे से कमरे में रहकर उन्होंने पढ़ाई की, आज उसमें उनके चाचा के बेटे और उनके बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं। लेकिन अनिल की यादें आज भी घर में रची बसी हैं।"

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. खुफिया एजेंसी रॉ के नये चीफ अनिल धस्माना (हिंदी) aajtak।intoday।in। अभिगमन तिथि: 14 जनवरी, 2017।
  2. छह साल तक ग्वादर पोर्ट के काम को लटका देने वाला शख्स (हिंदी) thelallantop.com। अभिगमन तिथि: 14 जनवरी, 2016।
  3. 3.0 3.1 नये रॉ चीफ अनिल धस्माना का इतिहास (हिंदी) /hindi.firstpost.com। अभिगमन तिथि: 14 जनवरी, 2016।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अनिल_धस्माना&oldid=599557" से लिया गया