राजाधिराज  

(राजाधिराज प्रथम से पुनर्निर्देशित)


  • राजाधिराज प्रथम (1044-1052 ई.), राजेन्द्र प्रथम का पुत्र था और उसके बाद राज्य का वास्तविक उत्तराधिकारी था।
  • उसकी शक्ति का उपयोग प्रधानतया उन विद्रोहों को शान्त करने में हुआ, जो उसके विशाल साम्राज्य में समय-समय पर होते रहते थे।
  • विशेषतया, पाड्य, चेर वंश और सिंहल (श्रीलंका) के राज्यों ने राजाधिराज के शासन काल में स्वतंत्र होने का प्रयत्न किया, पर चोलराज ने उन्हें बुरी तरह से कुचल डाला।
  • उसका सर्वप्रथम संघर्ष कल्याणी के पश्चिमी चालुक्यों से हुआ।
  • राजाधिराज ने तत्कालीन चालुक्य नरेश सोमेश्वर प्रथम आहवमल्ल को पराजित कर चालुक्य राजधानी कल्याणी पर अधिकार कर लिया।
  • इस विजय के उपलक्ष्य में राजाधिराज ने अपना 'वीरभिषेक' करवाकर 'विजय राजेन्द्र' की उपाधि ग्रहण की थी।
  • राजधानी कल्याणी की विजय स्मृति के रूप में वहां से एक 'द्वार पालक की मूर्ति' लाकर राजाधिराज ने उसे तंजौर नगर के 'रासुरम' नामक स्थान पर स्थापित करवाया।
  • कालान्तर में लगभग 1050 ई. में सोमेश्वर ने चोल सेनाओं को अपने प्रदेश से बाहर खदेड़ दिया और साथ ही वेंगी के शासक राजाराम को अपनी अधीन कर लिया।
  • कोप्पम के युद्ध (1052-54ई.) में चालुक्य नरेश सोमेश्वर बुरी तरह पराजित हुआ, पर इस युद्ध में लड़ते समय बुरी तरह घायल होने के कारण राजाधिराज की मृत्यु युद्ध क्षेत्र में हो गई।
  • तत्पश्चात् राजाधिराज के छोटे भाई राजेन्द्र द्वितीय ने युद्ध क्षेत्र में ही अपना राज्याभिषेक सम्पन्न करवाया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राजाधिराज&oldid=511596" से लिया गया