शंकरगण  

रविन्द्र प्रसाद (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:46, 9 मार्च 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

(878 से 888 ई.)

  • शंकरगण ने 878 से 888 के मध्य शासन किया।
  • दक्षिणी कोशल के शासक को पराजित कर उसने पाली पर अधिकार कर लिया।
  • उसकी मृत्यु के बाद इसके दो पुत्रों- बालहर्ष एवं चुवराज प्रथम में बालहर्ष का शासन अल्पकालीन रहा।
  • उसके बाद युवराज प्रथम केयूर वर्ष की उपाधि धारण कर सिंहासन पर बैठा।
  • उसने गौड़ एवं कलिंग को युद्ध में परास्त कर दिया।
  • उसने लाट प्रदेश की भी विजय की।
  • राजशेखर कृत 'सिद्धसालभंजिका' में युवराज को 'उज्जयिनी भुजंग' कहा गया है।
  • युवराज प्रथम के राजदरबार में रहते हुए ही 'राजशेखर' में अपने दो ग्रंथों- 'काव्यमीमांसा' एवं 'विद्धसालभंजिका' की रचना की।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शंकरगण&oldid=318274" से लिया गया