"पहेली 21 जून 2020" के अवतरणों में अंतर  

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
('{| class="bharattable-green" width="100%" |- | 120px <quiz display=simple> {जैन ध...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 9: पंक्ति 9:
 
-[[संभवनाथ]]
 
-[[संभवनाथ]]
 
+[[ऋषभदेव]]
 
+[[ऋषभदेव]]
||[[चित्र:Rishabhanatha.jpg|right|border|80px|ऋषभदेव]]'ऋषभदेव' [[जैन धर्म]] के प्रथम [[तीर्थंकर]] हैं। तीर्थंकर का अर्थ होता है- 'जो तीर्थ की रचना करें। जो संसार सागर (जन्म मरण के चक्र) से [[मोक्ष]] तक के तीर्थ की रचना करें। ऋषभदेव को 'आदिनाथ' भी कहा जाता है। भगवान ऋषभदेव वर्तमान अवसर्पिणी काल के प्रथम तीर्थंकर हैं। [[ऋषभदेव]] महाराज नाभि के पुत्र थे। महाराज नाभि ने सन्तान-प्राप्ति के लिये [[यज्ञ]] किया। तप: पूत ऋत्विजों ने श्रुति के मन्त्रों से यज्ञ-पुरुष की स्तुति की। श्रीनारायण प्रकट हुए। विप्रों ने नरेश को उनके सौन्दर्य, ऐश्वर्य, शक्तिघन के समान ही पुत्र हो, यह प्रार्थना की। महाराज नाभि की महारानी की गोद में स्वयं वही परमतत्त्व प्रकट हुआ।{point}}अधिक जानकारी के लिए देखें:-[[ऋषभदेव]]
+
||[[चित्र:Rishabhanatha.jpg|right|border|80px|ऋषभदेव]]'ऋषभदेव' [[जैन धर्म]] के प्रथम [[तीर्थंकर]] हैं। तीर्थंकर का अर्थ होता है- 'जो तीर्थ की रचना करें। जो संसार सागर (जन्म मरण के चक्र) से [[मोक्ष]] तक के तीर्थ की रचना करें। ऋषभदेव को 'आदिनाथ' भी कहा जाता है। भगवान ऋषभदेव वर्तमान अवसर्पिणी काल के प्रथम तीर्थंकर हैं। [[ऋषभदेव]] महाराज नाभि के पुत्र थे। महाराज नाभि ने सन्तान-प्राप्ति के लिये [[यज्ञ]] किया। तप: पूत ऋत्विजों ने श्रुति के मन्त्रों से यज्ञ-पुरुष की स्तुति की। श्रीनारायण प्रकट हुए। विप्रों ने नरेश को उनके सौन्दर्य, ऐश्वर्य, शक्तिघन के समान ही पुत्र हो, यह प्रार्थना की। महाराज नाभि की महारानी की गोद में स्वयं वही परमतत्त्व प्रकट हुआ।{{point}}अधिक जानकारी के लिए देखें:-[[ऋषभदेव]]
 
</quiz>
 
</quiz>
  

16:06, 23 मई 2020 के समय का अवतरण

Paheli-logo.png

1. जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर कौन थे?

महावीर
अजितनाथ
संभवनाथ
ऋषभदेव
ऋषभदेव
'ऋषभदेव' जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर हैं। तीर्थंकर का अर्थ होता है- 'जो तीर्थ की रचना करें। जो संसार सागर (जन्म मरण के चक्र) से मोक्ष तक के तीर्थ की रचना करें। ऋषभदेव को 'आदिनाथ' भी कहा जाता है। भगवान ऋषभदेव वर्तमान अवसर्पिणी काल के प्रथम तीर्थंकर हैं। ऋषभदेव महाराज नाभि के पुत्र थे। महाराज नाभि ने सन्तान-प्राप्ति के लिये यज्ञ किया। तप: पूत ऋत्विजों ने श्रुति के मन्त्रों से यज्ञ-पुरुष की स्तुति की। श्रीनारायण प्रकट हुए। विप्रों ने नरेश को उनके सौन्दर्य, ऐश्वर्य, शक्तिघन के समान ही पुत्र हो, यह प्रार्थना की। महाराज नाभि की महारानी की गोद में स्वयं वही परमतत्त्व प्रकट हुआ।ध्यान देंअधिक जानकारी के लिए देखें:-ऋषभदेव

आपके कुल अंक है 0 / 0



पहेली 20 जून 2020 Arrow-left.png पहेली 21 जून 2020 Arrow-right.png पहेली 22 जून 2020


सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
राज्यों के सामान्य ज्ञान
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पहेली_21_जून_2020&oldid=646655" से लिया गया