निर्वाणी  

व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:12, 21 मार्च 2014 का अवतरण (Text replace - "Category:जैन धर्म कोश" to "Category:जैन धर्म कोशCategory:धर्म कोश")

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

निर्वाणी सोलहवें जैन तीर्थकर की संरक्षिका, सेविका यक्षिणी और शासन देवी मानी गई हैं। जैन आचार्य हेमचन्द्र के अनुसार सुन्दर काया वाली, कमल के आसन पर विराजमान, चतुर्भुजा निर्वाणी सोलहवें जैन तीर्थकर की संरक्षिका-सेविका यक्षिणी हैं।

  • इसके एक सीधे हाथ में पुस्तक, दूसरे में नील कमल तथा एक बाएँ हाथ में जल-कलश और कमल पुष्प हैं।
  • भट्टाचार्य के अनुसार लखनऊ के संग्रहालय में निर्वाणी यक्षिणी की अलग से एक पाषाण प्रतिमा मौजूद है।
  • ग्वालियर में भी इस यक्षिणी की सेविका के रूप में मूर्तियाँ मिलती हैं।
  • निर्वाणी यक्षिणी के हाथ में पुस्तक और कमल पुष्प हिन्दुओं की विद्या की देवी सरस्वती की याद दिलाते हैं।
  • इसके हाथ में जल-कलश, पुष्प जैन यक्ष परम्परा के प्रतीक हैं।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=निर्वाणी&oldid=469838" से लिया गया