"के. पी. एस. गिल" के अवतरणों में अंतर  

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
 
पंक्ति 61: पंक्ति 61:
 
*[http://hindi.news18.com/news/nation/former-punjab-dgp-kps-gill-passed-away-999759.html 'सुपरकॉप' के नाम से मशहूर पूर्व डीजीपी केपीएस गिल का निधन]
 
*[http://hindi.news18.com/news/nation/former-punjab-dgp-kps-gill-passed-away-999759.html 'सुपरकॉप' के नाम से मशहूर पूर्व डीजीपी केपीएस गिल का निधन]
 
==संबंधित लेख==
 
==संबंधित लेख==
 
+
{{भारतीय पुलिस अधिकारी}}
 
[[Category:भारतीय पुलिस अधिकारी]][[Category:प्रसिद्ध व्यक्तित्व]][[Category:जीवनी साहित्य]][[Category:चरित कोश]][[Category:प्रसिद्ध व्यक्तित्व कोश]]
 
[[Category:भारतीय पुलिस अधिकारी]][[Category:प्रसिद्ध व्यक्तित्व]][[Category:जीवनी साहित्य]][[Category:चरित कोश]][[Category:प्रसिद्ध व्यक्तित्व कोश]]
 
__INDEX__
 
__INDEX__

12:59, 29 जून 2020 के समय का अवतरण

के. पी. एस. गिल
के. पी. एस. गिल
पूरा नाम कंवर पाल सिंह गिल
जन्म 1934/35
जन्म भूमि लुधियाना, पंजाब
मृत्यु 26 मई, 2017
मृत्यु स्थान नई दिल्ली
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र भारतीय पुलिस सेवा
पुरस्कार-उपाधि 'पद्मश्री' (1989)
प्रसिद्धि पुलिस महानिदेशक
विशेष योगदान पंजाब के आतंकवादी एवं उग्रवादी विद्रोह को नियंत्रित करना।
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी गिल को सुरक्षा मामलों में बेहद अनुभवी माना जाता था। यहां तक कि उनकी सेवानिवृत्ति के बाद भी छत्तीसगढ़ और गुजरात सरकारों ने उनकी सेवा ली। वे असम के भी पुलिस महानिदेशक रहे।
अद्यतन‎

कंवर पाल सिंह गिल (अंग्रेज़ी: Kanwar Pal Singh Gill, जन्म- 1934/35, लुधियाना; मृत्यु- 26 मई, 2017, नई दिल्ली) पंजाब के दो बार पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) रहे थे। उन्हें पंजाब के आतंकवादी एवं उग्रवादी विद्रोह को नियंत्रित करने का श्रेय दिया जाता है। के. पी. एस. गिल को आतंकवाद की कमर तोड़ने वाला 'सुपरकॉप' कहा जाता है। वे भारतीय पुलिस सेवा से साल 1995 में सेवानिवृत्त हो चुके थे। गिल 'इंस्टीट्यूट फ़ॉर कॉन्फ्लिक्ट मैनेजमेंट' और 'इंडियन हॉकी फ़ेडरेशन' के अध्यक्ष रहे थे। भारतीय प्रशासनिक सेवा में उनके बेहतरीन काम को ध्यान में रखते हुए 1989 में 'पद्मश्री' से सम्मानित किया गया था।

परिचय

के. पी. एस. गिल का जन्म सन 1934/35 में ब्रिटिशकालीन भारत के लुधियाना, पंजाब में हुआ था। वे 1957 आईपीएस बैंच असम पुलिस के अफ़सर थे और पंजाब में प्रतिनियुक्ति पर भेजे गए थे। जहाँ उनको पंजाब में चरमपंथ को खत्म करने का श्रेय मिला, वहीं मानवाधिकार संगठनों ने पुलिस के तौर-तरीकों पर गंभीर सवाल भी उठाए और फर्जी मुठभेड़ों के अनेक मामले न्यायालय में भी पहुँचे। के. पी. एस. गिल ने पंजाब में खालिस्तानी आंदोलन पर सख़्त कार्रवाई की थी। 1988 में उन्होंने खालिस्तानी चरमपंथियों के ख़िलाफ़ 'ऑपरेशन ब्लैक थंडर' की कमान संभाली थी। यह ऑपरेशन काफ़ी कामयाब रहा था। बाद में के. पी. एस. गिल 'इंडियन हॉकी फ़ेडरेशन' के अध्यक्ष बन गये थे।[1]

बाहरी कड़ियाँ

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=के._पी._एस._गिल&oldid=647655" से लिया गया