इंदिरा गाँधी मेमोरियल ट्यूलिप उद्यान  

व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:33, 6 अप्रॅल 2015 का अवतरण (Text replace - "गुलाम" to "ग़ुलाम")

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

इंदिरा गाँधी मेमोरियल ट्यूलिप उद्यान
इंदिरा गाँधी मेमोरियल ट्यूलिप उद्यान
विवरण 'इंदिरा गाँधी मेमोरियल ट्यूलिप उद्यान' श्रीनगर में स्थित कई प्रसिद्ध बाग़ों में से एक है। पहले इस उद्यान को 'सिराज बाग़' से नाम से जाना जाता था।
ज़िला श्रीनगर
राज्य जम्मू-कश्मीर
क्षेत्रफल यह उद्यान कुल 90 एकड़ के बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। फूलों के मौसम में इस बगीचे में कम से कम 13 लाख ट्यूलिप बल्‍ब एक बार में खिलते हैं।
विशेष प्रत्येक वर्ष यहाँ अप्रैल के पहले हफ्ते में दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा 'ट्यूलिप समारोह' मनाया जाता है। वर्ष 2007 में पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से यह उत्सव शुरू किया गया। 2008 में इसका विधिवत उद्घाटन हुआ।
अन्य जानकारी उद्यान पर्यटन के साथ-साथ व्यावसायिक गतिविधियों का भी केंद्र है। यहाँ उगाए जाने वाले ट्यूलिप मुंबई, दिल्ली, बंगलुरू और हैदराबाद के अलावा देश के अन्य कोनों में भी भेजा जाते हैं।

इंदिरा गाँधी मेमोरियल ट्यूलिप उद्यान जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में स्थित है। डल झील के किनारे जबरवान पहाडि़यों की चोटियों पर स्थित यह उद्यान बेहद आकर्षक और लुभावना है। प्रत्येक वर्ष 7 दिन तक यहाँ 'ट्यूलिप समारोह' चलता है, जिसमें 70 किस्‍मों से भी अधिक ट्यूलिप देखने को मिलते हैं। यह उद्यान श्रीनगर में स्थित कई उद्यानों में सर्वाधिक प्रसिद्ध है।

उद्यान की कल्पना

स्‍थानीय लोगों में 'सिराज बाग़' के नाम से लोकप्रिय 'इंदिरा गाँधी मेमोरियल ट्यूलिप उद्यान' की कल्पना सबसे पहले पूर्व मुख्यमंत्री ग़ुलाम नबी आजाद के दिमाग में आई थी। यह प्रसिद्ध उद्यान पर्यटन के साथ-साथ व्यावसायिक गतिविधियों का भी केंद्र है। यहाँ विभिन्न प्रकार के उगाए जाने वाले ट्यूलिप मुंबई, दिल्ली, बंगलुरू और हैदराबाद के अलावा देश के अन्य कोनों में भी भेजा जाते हैं।

क्षेत्रफल

यह उद्यान कुल 90 एकड़ के बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। फूलों के मौसम में इस बगीचे में कम से कम 13 लाख ट्यूलिप बल्‍ब एक बार में खिलते हैं। इंदिरा गाँधी मेमोरियल ट्यूलिप उद्यान, शालीमार बाग़, निशात बाग़, चश्‍म-ए-शाही बाग़ और अन्‍य मुग़ल बाग़ के पास ही स्थित है।

विश्व प्रसिद्ध डल झील के किनारे विकसित 'इंदिरा गाँधी मेमोरियल ट्यूलिप उद्यान' में ट्यूलिप की 70 से अधिक किस्में हैं, जिनका हॉलैंड से आयात किया गया है। पहले इस उद्यान को 'सिराज बाग़' से नाम से जाना जाता था। यह ट्यूलिप उद्यान 2008 में खोला गया था। उद्यान स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य कश्मीर की घाटी में पर्यटकों के मौसम को जल्दी शुरू करना था। यह उद्यान 20 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में फैला हुआ है। अब उद्यान का विस्तार और भी अधिक होने की उम्मीद है, क्योंकि जबरवान पहाड़ी का और इसका इलाका ट्यूलिप उद्यान के विस्तार के लिए इस्तेमाल में लाया जा रहा है। इससे न केवल पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, अपितु उन स्थानीय युवकों को रोजगार भी मिलेगा, जिन्होंने कृषि और बाग़बानी से संबद्ध क्षेत्रों में डिग्रियां प्राप्त की हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=इंदिरा_गाँधी_मेमोरियल_ट्यूलिप_उद्यान&oldid=526002" से लिया गया