अराकान  

रविन्द्र प्रसाद (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:09, 8 जुलाई 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

अराकान बर्मा का एक प्रदेश है। अराकान की पट्टी बंगाल की खाड़ी के पूर्वी तट पर स्थित है। यहाँ 1784 ई. तक एक स्वतंत्र राज्य रहा था, जिसे बर्मी लोगों ने जीत लिया था। बर्मा की सीमा के विस्तार से भारत की अंग्रेज़ ब्रिटिश सरकार ने बंगाल के लिए ख़तरा महसूस किया। प्रथम बर्मा युद्ध (1824-1826) का एक कारण यह भी था। युद्ध के बाद अराकान का क्षेत्र 'यन्दबू की सन्धि' के अनुसार भारत की अंग्रेज़ी सरकार को मिल गया।

विस्तार

बंगाल की खाड़ी के पूर्वी तट पर चटगांव (चिटागांग) से नेग्रेस अंतरीप तक अराकान विस्तृत है। इस प्रकार इसकी लंबाई लगभग 400 मील (लगभग 640 कि.मी.) है। इसकी चौड़ाई उत्तर में 90 मील (लगभग 144 कि.मी.) है, परंतु अराकान योमा पर्वत के कारण दक्षिण की ओर अराकान की चौड़ाई धीरे-धीरे कम होते-होते 15 मील (लगभग 24 कि.मी.) हो जाती है। तट पर अनेक टापू हैं। इस प्रदेश का प्रधान नगर 'अकयाब' है। प्रांत चार ज़िलों में विभक्त है। अराकान का क्षेत्रफल लगभग 16,000 वर्ग मील है।[1]

भौगोलिक दशा

अराकान की चार मुख्य नदियाँ- नाफ, मायू, कलदन और लेमरो हैं। कलदन काफ़ी गहरी नदी है और इसमें छोटे जहाज 50 मील (लगभग 80 कि.मी.) भीतर तक जा सकते हैं अन्य नदियाँ बहुत छोटी हैं, क्योंकि वे पहाड़ जिनसे ये निकली हैं, समुद्र के निकट हैं। पर्वत को पार करने के लिए कई दर्रे हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 अराकान (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 5 जून, 2012।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अराकान&oldid=495882" से लिया गया