अंशुमान  

यशी चौधरी (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:13, 19 मई 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

अंशुमान त्रेतायुग में अयोध्या के एक इक्ष्वाकुवंशी राजा थे।

  • इनके पितामह राजा 'सगर' थे, पिता 'असमंजस, पुत्र 'दिलीप' तथा पौत्र भगीरथ थे।
  • राजा सगर के अश्वमेध के घोड़े की खोज में गए अंशुमान कपिल मुनि को प्रसन्न कर घोड़ा लाए और कपिल के शाप से भस्म हुए राजकुमारों की मुक्ति के लिए गंगा का पृथ्वी पर अवतरण ही उपाय है, यह भी ज्ञात किया।
  • अंशुमान सगर के बाद राजा बने थे।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अंशुमान&oldid=628601" से लिया गया