अंगी  

आशा चौधरी (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:26, 20 जनवरी 2020 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

अंगी - विशेषण (संस्कृत अङ्गी)[1]

1. शरीरी, देहधारी, शरीर वाला।
2. अवयवी, उपकार्य, अंशी, समष्टि।
3. प्रधान, मुख्य।

अंगी - विशेषण स्त्रीलिंग
अंग वाली (केवल समास में प्रयुक्त, जैसे- तन्वंगी, कोमलांगी आदि)।

अंगी - संज्ञा पुल्लिंग
1. नाटक का प्रधान नायक, जैसे- 'सत्यहरिश्चंद्र' में हरिश्चंद्र
2. प्रधान रस। नाटकों में शृंगार और वीर, ये दो रस अंगी[2] कहलाते हैं और शेष रस अंग।[3]

अंगी - संज्ञा स्त्रीलिंग (डिंगल)
चौदह विद्याएँ।

अंगी - संज्ञा स्त्रीलिंग
'अंगिया'


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिंदी शब्दसागर, प्रथम भाग |लेखक: श्यामसुंदरदास बी. ए. |प्रकाशक: नागरी मुद्रण, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 09 |
  2. प्रधान
  3. अप्रधान

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अंगी&oldid=639538" से लिया गया