लक्ष्मी नारायण उपाध्याय  

लक्ष्मी नारायण उपाध्याय
लक्ष्मी नारायण उपाध्याय
पूरा नाम लक्ष्मी नारायण उपाध्याय
जन्म 1 सितम्बर, 1901
जन्म भूमि अलीगढ़, उत्तर प्रदेश
कर्म भूमि भारत
पुरस्कार-उपाधि 'इंदिरा प्रियदर्शिनी पुरस्कार'
प्रसिद्धि भूगोलवेत्ता
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी जीवन के आखरी पड़ाव पर आकार लक्ष्मी नारायण उपाध्याय ने 'गीता' पर आधारित सारगर्भित भाषा-काव्य एवं अनेक अन्य ग्रंथों का प्रणयन किया।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

डॉ. लक्ष्मी नारायण उपाध्याय (जन्म- 1 सितम्बर, 1901, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश) एक जानेमाने भूगोलवेत्ता थे। पर्यावरण के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए इन्हें 'इंदिरा प्रियदर्शिनी पुरस्कार' से सम्मानित किया गया था।

  • लक्ष्मी नारायण उपाध्याय का जन्म अलीगढ़ के एक संपन्न परिवार में हुआ था।
  • इन्होंने अनेक विषयों में स्नातकोत्तर की उपाधियाँ प्राप्त की थीं। भूगोल में किये गए इनके शोध कार्य के लिए इन्हें 'डाक्टरेट' की उपाधि से विभूषित किया गया था।
  • अनेक वर्षों तक पंजाब एवं राजस्थान के महाविद्यालयों में भूगोल के विभागाध्यक्ष रहते हुए भूगोल में अनेक शोध-पत्रों का संपादन एवं मार्गदर्शन भी इन्होंने किया।
  • पर्यावरण के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए 'इंदिरा प्रियदर्शिनी पुरस्कार' से सम्मानित किये गए थे।
  • जीवन के आखरी पड़ाव पर आकार लक्ष्मी नारायण उपाध्याय ने 'गीता' पर आधारित सारगर्भित भाषा-काव्य एवं अनेक अन्य ग्रंथों का प्रणयन किया।
  • लक्ष्मी नारायण जी मिमिक्री के भी बहुत उच्च-कोटि के कलाकार थे। अपने जीवन काल में उन्होंने अनेक संस्थानों का पल्लवन किया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=लक्ष्मी_नारायण_उपाध्याय&oldid=567093" से लिया गया