Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
मिलन (खण्डकाव्य) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

मिलन (खण्डकाव्य)  

मिलन हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध साहित्यकार रामनरेश त्रिपाठी द्वारा रचित खण्डकाव्य है, जिसका प्रकाशन सन 1917 ई. में हुआ था।

  • 1953 तक 'हिन्दी मंदिर', प्रयाग से इसके नौ संस्करण निकल चुके थे।
  • 'मिलन' एक प्रेमाख्यानक खंडकाव्य है, जिसमें कवि द्वारा निर्मित एक सूक्ष्म कथातंतु के माध्यम से दाम्पत्य जीवन, प्रकृति तथा देश भक्ति की भावनाओं का बड़ा सरस वर्णन किया गया है।
  • इस खण्ड काव्य की भाषा सरस, प्रवाहपूर्ण खड़ीबोली है तथा कविता की दृष्टि से इसमें स्वच्छंदतावादी प्रवृत्तियों का समावेश हुआ है।
  • खड़ीबोली के काव्यात्मक विकास के लिए रामनरेश त्रिपाठी की यह प्रारम्भिक कृति अत्यंत उपयोगी सिद्ध हुई है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. धीरेंद्र, वर्मा “भाग- 2 पर आधारित”, हिंदी साहित्य कोश (हिंदी), 446।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मिलन_(खण्डकाव्य)&oldid=321772" से लिया गया