Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
ताड़पत्र (लेखन सामग्री) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

ताड़पत्र (लेखन सामग्री)  

प्राचीनता

ताड़पत्र

भारत में लिखने के लिए ताड़पत्रों का उपयोग बहुत प्राचीन काल से होता आ रहा है। जातक कथाओं में 'पण्ण' (पत्र, पन्ना) शब्द सम्भवतः ताड़पत्र के लिए ही प्रयुक्त हुआ है। चीनी यात्री युवानच्वांग की उनके एक शिष्य के द्वारा लिखी गई जीवनी से पता चलता है कि बुद्ध के निर्वाण के शीघ्र बाद हुई प्रथम संगीति में जो त्रिपिटक तैयार हुआ, उसे ताड़पत्रों पर लिखा गया था।

प्राचीन हस्तलिपि

ताड़पत्र की जो सबसे प्राचीन हस्तलिपि मिली है, वह ईसा की दूसरी सदी के एक नाटक की खण्डित प्रति है। यह ताड़पत्रों पर स्याही से लिखी गई है। जापान के 'होर्युजी मन्दिर' में 'उष्णीशविजयधारणी' नामक लगभग 600 ई. की एक 'ताड़पत्र पोथी' सुरक्षित है। जैसलमेर के ग्रन्थ-भण्डार में ताड़पत्रों की कुछ प्राचीन हस्तलिपियाँ मिली हैं। महापण्डित राहुल सांकृत्यायन (1893-1963 ई.) ताड़पत्रों की कई पोथियाँ तिब्बत से भारत लाए हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ताड़पत्र_(लेखन_सामग्री)&oldid=276064" से लिया गया