ज़ेबुन्निसा  

धर्मपरायण

ज़ेबुन्निसा को उसका दारा शिकोह बहुत प्यार करता था और वह सूफ़ी प्रवृत्ति की धर्मपरायण स्त्री थी। ज़ेबुन्निसा को चार लाख रुपये का जो वार्षिक भत्ता मिलता था, उसका अधिकांश भाग वह विद्वानों को प्रोत्साहन देने, विधवाओं तथा अनाथों की सहायता करने और प्रतिवर्ष 'मक्का मदीना' के लिये तीर्थयात्री भेजने में खर्च करती थी। उसने बहुत सुंदर पुस्तकालय तैयार किया था और सुंदर अक्षर लिखने वालों से दुर्लभ तथा बहुमूल्य पुस्तकों की नकल करावायी।

अनुवाद कार्य

ज़ेबुन्निसा ने प्रस्ताव के अनुसार साहित्यिक कृतियाँ तैयार करने वाले बहुत-से विद्वानों को अच्छे वेतन पर रखा और अपने अनुग्रहपात्र मुल्ला सैफुद्दीन अर्दबेली की सहायता से अरबी के ग्रंथ तफ़सीरे कबीर (महत्‌ टीका) का 'जेबुन तफ़ासिर' नाम से फ़ारसी में अनुवाद किया।[1]

कवियित्री

सत्रहवीं सदी की बेहतरीन कवियित्री जेबुन्निसा उर्फ मखफी की कहानी मध्यकाल की सबसे त्रासद कहानियों में एक रही है। ज़ेबुन्निसा को अपने पिता के परस्पर-विरोधी कई व्यक्तित्वों में से उसका शायराना व्यक्तित्व विरासत में मिला था। 14 साल की उम्र में ही उसने मखफी उपनाम से फ़ारसी में शेर, ग़ज़ल और रुबाइयां कहनी शुरू कर दी थीं। औरंगजेब के दरबार में मुशायरों पर प्रतिबंध की वज़ह से ज़ेबुन्निसा चुपके-चुपके अदब की गोपनीय महफ़िलों में शिरक़त करती थी। उन महफ़िलों में उस दौर के प्रसिद्ध शायर अक़ील खां रज़ी, नेमतुल्लाह खां, गनी कश्मीरी आदि शामिल होते थे। मुशायरों के दौरान शायर अक़ील खां रज़ी से उसकी बेपनाह मुहब्बत चर्चा का विषय बनी तो अनुशासन के पाबन्द औरंगजेब ने उसे दिल्ली के सलीमगढ़ के क़िले में क़ैद कर दिया।

जेबुन्निसा आजीवन अविवाहित रही। उसकी ज़िन्दगी के आखिरी बीस साल क़ैद की तन्हाई में ही गुज़रे और क़ैद में ही उसकी मौत हुई। क़ैद के मुश्किल दिनों में ही उसके कविता संकलन ‘दीवान-ए-मखफी‘ की पांडुलिपि तैयार हुई, जिसमें उसकी 5000 से ज्यादा ग़ज़लें, शेर और रुबाईयां संकलित हैं। इस दीवान की पांडुलिपियां पेरिस और लंदन की नेशनल लाइब्रेरियों में आज भी सुरक्षित हैं। पहली बार 1929 में दिल्ली से और 2001 में तेहरान से इसका प्रकाशन हुआ। मिर्ज़ा ग़ालिब के पहले ज़ेबुन्निसा ऐसी अकेली शायरा थी, जिसकी ग़ज़लों और रुबाईयों के अनुवाद उर्दू, अंग्रेज़ी और फ्रेंच समेत कई भाषाओं में हुए थे। उसकी एक रुबाई का अंग्रेज़ी अनुवाद इस प्रकार है-[2]

वो नज़र जब मुझ पर गिरी थीं पहली बार
मैं सहसा अनुपस्थित हो गई थी
वो तुम्हारी नज़र नहीं, खंज़र थी शायद
जो मेरे जिस्म में समाई
और लहू के धब्बे लिए बाहर निकल आई थी

आप ग़लत हैं, दोस्त
यह कोई दोज़ख नहीं, जन्नत है
मत करो मुझसे अगले किसी जन्म का वादा
वर्तमान के तमाम दर्द
सभी बेचैनियां लिए जज़्ब हो जाओ मुझमें
मत भटकाओ मुझे काबे के रास्तों में
वहां नहीं, यहीं कहीं मिलेगा खुदा
किसी चेहरे से झरते नूर
किसी नशीले लम्हे की खूबसूरती में

वहीं, वहीं कहीं होगी पाकीज़गी
जहां तुम सौंप दोगे अपनी बेशुमार ख्वाहिशें
अपनी ज़ेबुन्निसा को
जो सदियों से तुम्हारा ही इंतज़ार कर रही है!

नज़रबंदी तथा मृत्यु

अपने पिता औरंगज़ेब के विरुद्ध विद्रोह करने वाले शाहज़ादा अकबर के साथ गुप्त पत्र-व्यवहार का पता चल जाने पर ज़ेबुन्निसा का निजी भत्ता बंद कर दिया, जमींदारी जब्त कर ली गई और उसे जनवरी, 1691 में दिल्ली के सलीमगढ़ क़िले में नजरबंद कर दिया गया। ज़ेबुन्निसा की मृत्यु 1702 में हुई। उसे काबुली गेट के बाहर 'तीस हज़ारा बाग़' में दफ़नाया गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 ज़ेबुन्निसा (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 21 मार्च, 2014।
  2. एक थी जेबुन्निसा (हिन्दी) livevns.com। अभिगमन तिथि: 16 अगस्त, 2016।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ज़ेबुन्निसा&oldid=609752" से लिया गया