ऑटिज़्म  

ऑटिज़्म के लक्षण

ऑटिज़्म के लक्षण

ऑटिज़्म परवेसिव डेवलॅपमेंटल डिसआर्डर (पी.डी.डी.) के पाँच प्रकारों में से एक है। ऑटिज़्म को केवल एक लक्षण के आधार पर पहचाना नहीं जा सकता, बल्कि लक्षणों के पैटर्न के आधार पर ही ऑटिज़्म की पहचान की जा सकती है। सामाजिक कुशलता व संप्रेषण का अभाव, किसी कार्य को बार-बार दोहराने की प्रवृत्ति तथा सीमित रुझान इसके प्रमुख लक्षण हैं। एक आम आदमी के लिए ऑटिज़्म की पहचान करना काफ़ी मुश्किल है। इसके मूल में दो कारण हो सकते हैं। एक तो आटिस्टिक व्यक्ति की शारीरिक संरचना में प्रत्यक्ष तौर पर कोई कभी नहीं होती। अन्य सामान्य व्यक्तियों जैसी ही होती है। दूसरे बच्चे की तीन वर्ष की उम्र में ही ऑटिज़्म के लक्षण दिखाई देते हैं, इससे पहले नहीं। गौर करने वाली बात यह है कि ऑटिज़्म से पीड़ित दो बच्चों के लक्षण समान नहीं होते हैं। जहाँ कुछ बच्चों में यह बीमारी सामान्य रूप में होती है, तो कुछ में इसका प्रभाव ज़्यादा देखने को मिलता है। ऑटिज़्म मस्तिष्क के कई भागों को प्रभावित करता है, पर इसके कारणों को ढंग से नहीं समझा जाता। आमतौर पर माता पिता अपने बच्चे के जीवन के पहले दो वर्षों में ही इसके लक्षणों को भाँप लेते हैं। ऑटिज़्म को एक लक्षण के बजाय एक विशिष्ट लक्षणों के समूह द्वारा बेहतर समझा जा सकता है। मुख्य लक्षणों में शामिल हैं-

सामाजिक संपर्क में असमर्थता

ऑटिज़्म से ग्रस्त व्यक्ति परस्पर संबंध स्थापित नहीं कर पाते हैं तथा सामाजिक व्यवहार में असमर्थ होने के साथ ही दूसरे लोगों के मंतव्यों को समझने में भी असमर्थ होते हैं इस कारण लोग अक्सर इन्हें गंभीरता से नहीं लेते। सामाजिक असमर्थतायें बचपन से शुरू होकर वयस्क होने तक चलती हैं। ऑटिस्टिक बच्चे सामाजिक गतिविधियों के प्रति उदासीन होते हैं, वो लोगो की ओर ना देखते हैं, ना मुस्कुराते हैं और ज़्यादातर अपना नाम पुकारे जाने पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं करते हैं। ऑटिस्टिक शिशुओं का व्यवहार तो और चौंकाने वाला होता है, वो आँख नहीं मिलाते हैं और अपनी बात कहने के लिये वो अक्सर दूसरे व्यक्ति का हाथ छूते और हिलाते हैं। तीन से पाँच साल के बच्चे आमतौर पर सामाजिक समझ नहीं प्रदर्शित करते हैं, बुलाने पर एकदम से प्रतिकिया नहीं देते, भावनाओं के प्रति असंवेदनशील, मूक व्यवहारी और दूसरों के साथ मुड़ जाते हैं। इसके बावजूद वो अपनी प्राथमिक देखभाल करने वाले व्यक्ति से जुडे होते हैं। ऑटिज़्म से ग्रसित बच्चे आम बच्चों के मुक़ाबले कम संलग्न सुरक्षा का प्रदर्शन करते हैं (जैसे आम बच्चे माता पिता की मौजूदगी में सुरक्षित महसूस करते हैं)। आम धारणा के विपरीत, आटिस्टिक बच्चे अकेले रहना पसंद नहीं करते। दोस्त बनाना और दोस्ती बनाए रखना आटिस्टिक बच्चे के लिये अक्सर मुश्किल साबित होता है। इनके लिये मित्रों की संख्या नहीं बल्कि दोस्ती की गुणवत्ता मायने रखती है।

बातचीत करने में असमर्थता

ऑटिज़्म प्रभावित बच्चों की सबसे बड़ी समस्या भाषागत होती है। ऐसे बच्चों में मस्तिष्क में आए स्न्नायु विकार के कारण संप्रेषण की डीकोडिंग न हो पाने के कारण बोलने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है। लगभग 50% बच्चों में भाषा का विकास नहीं हो पाता है। एक तिहाई से लेकर आधे ऑटिस्टिक व्यक्तियों में अपने दैनिक जीवन की ज़रूरतों को पूरा करने के लायक़ भाषा बोध तथा बोलने की क्षमता विकसित नहीं हो पाती। संचार में कमियाँ जीवन के पहले वर्ष में ही दृष्टिगोचर हो जाती हैं जिनमे शामिल है, देर से बोलना, असामान्य भाव, मंद प्रतिक्रिया और अपने पालक के साथ हुये वार्तालाप में सामंजस्य का नितांत आभाव। दूसरे और तीसरे साल में, ऑटिस्टिक बच्चे कम बोलते हैं, साथ ही उनका शब्द संचय और शब्द संयोजन भी विस्तृत नहीं होता। उनके भाव अक्सर उनके बोले शब्दों से मेल नहीं खाते। आटिस्टिक बच्चों में अनुरोध करने या अनुभवों को बाँटने की संभावना कम होती है, और उनमें बस दूसरों की बातें को दोहराने की संभावना अधिक होती है।

सीमित शौक़ और दोहराव युक्त व्यवहार
  1. वे एक ही क्रिया, व्यवहार को दोहराते हैं। जैसे- हाथ हिलाना, शरीर हिलाना और बिना मतलब की आवाज़ें करना आदि। जिसे स्टीरियोटाईपी कहते है यह एक निरर्थक प्रतिक्रिया है।
  2. प्रतिबंधित व्यवहार ध्यान, शौक़ या गतिविधि को सीमित रखने से संबंधित है, जैसे एक ही टीवी कार्यक्रम को बार बार देखना।
  3. बाध्यकारी व्यवहार का उद्देश्य नियमों का पालन करना होता है, जैसे कि वस्तुओं को एक निश्चित तरह की व्यवस्था में रखना।
  4. अनुष्ठानिक व्यवहार के प्रदर्शन में शामिल हैं दैनिक गतिविधियों को हर बार एक ही तरह से करना, जैसे- एक सा खाना, एक सी पोशाक आदि। यह समानता के साथ निकटता से जुड़ा है और एक स्वतंत्र सत्यापन दोनों के संयोजन की सलाह देता है।
  5. समानता का अर्थ परिवर्तन का प्रतिरोध है, उदाहरण के लिए, फर्नीचर के स्थानांतरण से इंकार।
  6. आत्मघात (स्वयं को चोट पहुँचाना) से अभिप्राय है कि कोई भी ऐसी क्रिया जिससे व्यक्ति खुद को आहत कर सकता हो, जैसे- खुद को काट लेना। डोमिनिक एट अल के अनुसार लगभग ASD से प्रभावित 30% बच्चे स्वयं को चोट पहँचा सकते हैं।
  7. वे प्रकाश, ध्वनि, स्पर्श और दर्द जैसे संवेदनों के प्रति असामान्य प्रतिक्रिया दर्शाते हैं। उदाहरण के तौर पर वह प्रकाश में अपनी आंखों को बंद कर लेते हैं, कुछ विशेष ध्वनियां होने पर वह अपने कानों को बंद कर लेते हैं।
खेलने का उनका अपना असामान्य तरीक़ा

ऑटिज़्म से पीड़ित बच्चे अलग तरीक़े के खेल खेलते हैं, जैसे कई कारों को क्रमबद्ध करने का खेल। ये बच्चे खिलौने को आम बच्चों की तुलना में अधिक घुमाते हैं। ऐसे बच्चे समूह में रहना पसंद नहीं करते, उनकी अपनी अलग ही दुनिया होती है। वह बिना किसी बात के रोने और चिल्लाने लगते हैं। इस तरह के बच्चे अपने गुस्से, हताशा आदि का इजहार बोल कर नहीं कर पाते। कार्यात्मक संभाषण के लिए संयुक्त ध्यान आवश्यक होता है और इस संयुक्त ध्यान में कमी, ASD शिशुओं को अन्यों से अलग करता है।[3]

बाल्यावस्था में ऑटिज़्म को कैसे पहचाने

बाल्यावस्था में सामान्य बच्चों एवं ऑटिस्टिक बच्चों में कुछ प्रमुख अन्तर होते हैं जिनके आधार पर इस अवस्था की पहचान की जा सकती है जैसे:-

  1. सामान्य बच्चे माँ का चेहरा देखते हैं और उसके हाव-भाव समझने की कोशिश करते हैं परन्तु ऑटिज़्म से ग्रसित बच्चे किसी से नज़र मिलाने से कतराते हैं।
  2. सामान्य बच्चे आवाज़ें सुनने के बाद खुश हो जाते हैं परन्तु ऑटिस्टिक बच्चे आवाज़ों पर ध्यान नहीं देते।
  3. सामान्य बच्चे धीरे-धीरे भाषा ज्ञान में वृद्धि करते हैं परन्तु ऑटिस्टिक बच्चे बोलने के कुछ समय बाद अचानक ही बोलना बंद कर देते हैं तथा अजीब आवाज़ें निकालते हैं।
  4. सामान्य बच्चे माँ के दूर होने पर या अनजाने लोगों से मिलने पर परेशान हो जाते हैं परन्तु ऑटिस्टिक बच्चे किसी के आने-जाने पर परेशान नहीं होते।
  5. ऑटिस्टिक बच्चे तकलीफ के प्रति कोई क्रिया नहीं करते और बचने की भी कोशिश नहीं करते।
  6. सामान्य बच्चे क़रीबी लोगों को पहचानते हैं तथा उनके मिलने पर मुस्कुराते हैं लेकिन ऑटिस्टिक बच्चे कोशिश करने पर भी किसी से बात नहीं करते वो अपने ही दुनिया में खोये रहते हैं।
  7. ऑटिस्टिक बच्चे एक ही वस्तु या कार्य में मग्न रहते हैं तथा अजीब क्रियाओं को बार-बार दुहराते हैं। जैसे- आगे-पीछे हिलना, हाथ को हिलाते रहना।
  8. ऑटिस्टिक बच्चे अन्य बच्चों की तरह काल्पनिक खेल नहीं खेल पाते वह खेलने के बजाय खिलौनों को सूंघते या चाटते हैं।
  9. ऑटिस्टिक बच्चे बदलाव को बर्दास्त नहीं कर पाते एवं अपने क्रियाकलापों को नियमानुसार ही करना चाहते हैं।
  10. ऑटिस्टिक बच्चे बहुत चंचल या बहुत सुस्त होते हैं।
  11. इन बच्चों में कुछ विशेष बातें होती है जैसे- एक इन्द्री का अतितीव्र होना।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 1.4 अरोरा, श्रीमती राजबाला। ऑटिज़्म: शीघ्र हस्तक्षेप ज़रूरी (हिन्दी) (पी.एच.पी) ग्वालियर टाइम्स। अभिगमन तिथि: 5 दिसंबर, 2010।
  2. जानें क्या है ऑटिज़्म? (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल) वेब दुनिया हिन्दी। अभिगमन तिथि: 19 फ़रवरी, 2011
  3. ऑटिज़्म (आत्मविमोह) (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल)। । अभिगमन तिथि: 5 दिसंबर, 2010।
  4. ऑटिज़्म और भ्रांतियाँ (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल) वेब दुनिया हिन्दी। अभिगमन तिथि: 19 फ़रवरी, 2011
  5. 5.0 5.1 ऑटिज़्म होने के क्या कारण है? (हिन्दी) (पी.एच.पी) ऑटिज़्म। अभिगमन तिथि: 19 फ़रवरी, 2011

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ऑटिज़्म&oldid=616929" से लिया गया