एस. निजलिंगप्पा  

विशेष

एस. निजलिंगप्पा को "आधुनिक कर्नाटक का निर्माता" कहा जा सकता है। 1967 में जब देश के लोगों ने कांग्रेस में विश्वास करना छोड़ दिया, वह इसके अध्यक्ष बने निजलिंगप्पा के अथक प्रयासों से कांग्रेस में फिर से नया जीवन आ गया। लेकिन शायद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के इतिहास में सबसे बड़ी दुःखद घटना उनके अध्यक्ष होने के समय घटी संगठन मोर्चे तथा प्रशासन के उग्र पक्ष के बीच दुर्भाग्यपूर्ण रूप से दरार आ गयी, और निजलिंगप्पा इंदिरा गांधी के विपक्ष में चले गये।

निधन

एस. निजलिंगप्पा का निधन 8 अगस्त, 2000 को चित्रदुर्ग में हुआ था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 119 |

  1. एस. निजलिंगप्पा (हिंदी) इडियन नेशनल कांग्रेस। अभिगमन तिथि: 26 अक्टूबर, 2016।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=एस._निजलिंगप्पा&oldid=634318" से लिया गया