एडवर्ड हाइड क्लेयरेंडन  

एडवर्ड हाइड क्लेयरेंडन (1609-1674)। इंग्लैंड का राजनीतिज्ञ और इतिहासकार। विल्टरशायर स्थित डिंटन नगर में 18 फरवरी, 1609 को एक साधारण गृहस्थ एडवर्ड हाइड के घर जन्म। 1622 से 1625 तक आक्सफर्ड के मेडेलेन हाल में अध्ययन किया और स्नातक की उपाधि प्राप्त की। लंदन के मिडिल टेंपल में कानून का अध्ययन करने के बाद वकालत आरंभ की। कुछ ही वर्षों में वह सफल वकील माना जाने लगा। लोकप्रिय वकील के रूप में 1640 में वह वूटन बैसे से अल्पकालीन पार्लमेंट का सदस्य निर्वाचित हुआ। उसी वर्ष आयोजित दीर्घकालीन पार्लमेंट में वह सेल्टाश का प्रतिनिधि चुना गया।

यह वह काल था जब स्टुअर्ट वंशीय नरेश चार्ल्स (प्रथम) और पार्लामेंट के बीच संघर्ष चल रहा था जो अब चरम सीमा पर पहुँच रहा था। चार्ल्स पहले दो बार पार्लमेंट को विघटित कर चुका था। मार्च, 1628 में जो तीसरी पार्लामेंट बनी उसने पेटिशन ऑव राइट्स पारित किया। उसपर नरेश ने हस्ताक्षर तो कर दिया था पर उसका वह पालन नहीं कर रहा था। चौथी बार चार्ल्स ने पार्लामेंट का फिर से निर्वाचन कराया। इस पार्लामेंट का अधिवेशन 3 नवंबर, 1640 को आरंभ हुआ और उसकी बैठक दस मास तक होती रही। इस कारण यह दीर्घ पार्लामेंट के नाम से प्रख्यात है। इस पार्लमेंट ने आरंभ में ही राजा के 12 वर्षों के व्यक्तिगत शासन में कानूनों की उपेक्षा, असाधारण न्यायालयों का राजा के स्वार्थ-साधन में उपयोग, न्यायाधीशों द्वारा दुर्व्यवहार, जहाजी कर संबंधी निर्णय आदि अवैध कार्यों का विरोध किया। क्लेयरेंडन ने विरोध पक्ष का समर्थन तो किया किंतु वह धर्मव्यवस्था में परिवर्तन के प्रश्न पर विरोधियों से सहमत न था। इस मामले में उसने राजा का समर्थन किया। फलत: 1641 से वह उसका प्रच्छन्न परामर्शदाता बन गया। पार्लमेंट की माँगों और प्रस्तावों के संबंध में राजा के उत्तर वही तैयार करता था। राजा ने जब कामन्स सभा के पाँच सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया तब उसने उसका विरोध किया किंतु जब पार्लमेंट से संघर्ष छिड़ा तो वह प्रत्यक्ष रूप से राजा के साथ हो गया। उसने राजा को अवैध कार्यों के त्याग का परामर्श दिया। वह जानता था कि राजा के कार्यों का आधार कानून होना चाहिए। उसने राजा की नीति निश्चित की और कामन्स सभा में राजा के पक्ष में दल संगठित किया।

1643 में राजा ने उसको नाइट की पदवी दी, प्रिवी कौंसिल का सदस्य और कोष विभाग का प्रमुख अधिकारी (चांसलर ऑव ऐक्सचेकर) नियुक्त किया। उस वर्ष की आक्सफर्ड की पार्लमेंट में विवादग्रस्त मामलों में पार्लमेंट से बात करने के लिये राजा ने उसे अपना प्रतिनिधि नियुक्त किया था।

क्लेयरेंडन के सारे प्रयास के बावजूद जब गृहयुद्ध छिड़ गया और राजा के पक्ष की हार हुई तो वह राजा के ज्येष्ठ पुत्र चार्ल्स के साथ इंग्लैंड के पश्चिमी प्रदेश में चला गया। स्किली और जैरेसी द्वीपों में राजकुमार के प्रवासकाल में भी यह उसके साथ रहा। 1648 में दूसरी बार गृहयुद्ध आरंभ होने के बाद क्लेयरेंडन राजकुमार के साथ हॉलैंड चला गया। राजपक्ष के समर्थन में सहायताप्राप्ति के लिए 1649 में वह स्पेन गया और राजदूत के रूप में दो वर्ष वहाँ रहा, किंतु अपने उद्देश्य की पूर्ति में सफल न हुआ। 1652 में वह फिर राजकुमार के पास हॉलैंड लौट आया और इंग्लैंड के राजतंत्र की पुन:स्थापना तक वह उसका प्रधानमंत्री रहा। इन आठ वर्षों में वह राजकुमार की अर्थव्यवस्था और विदेशों के राजदरबारों तथा शासनव्यवस्था से असंतुष्ट स्वदेश के व्यक्तियों से संपर्क स्थापित करता रहा। 1658 में राजकुमार ने उसको अपना लॉर्ड चांसलर नियुक्त किया। 1660 की ब्रेडा की घोषणा, जिसमें राजकुमार ने विवाद के सभी मामले पार्लमेंट के निर्णय पर छोड़ दिए थे, क्लेयरेंडन ने ही तैयार की थी।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 3 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 241 |
  2. त्रलोचन र्पेत

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=एडवर्ड_हाइड_क्लेयरेंडन&oldid=632876" से लिया गया