हिसार  

हिसार दुर्ग, हरियाणा

हिसार एक शहर, जो पश्चिमोत्तर हरियाणा राज्य, पश्चिमोत्तर भारत में पश्चिमी यमुना नहर की हांसी शाखा पर स्थित है। इसकी स्थापना तुग़लक़ शासक फ़िरोज़ शाह तुग़लक़ ने की थी। प्राचीन समय में यहाँ कई आदिवासी जातियाँ रहा करती थीं। हिसार हरियाणा राज्य के पर्यटन के लिए एक आकर्षक स्‍थल है। पर्यटक यहाँ पर कई ख़ूबसूरत स्थलों की सैर कर सकते हैं। यहाँ कपास, अनाज और तेल के बीजों का बड़ा बाज़ार है। इस बाज़ार के लिए यह बहुत प्रसिद्ध है।

इतिहास

इस नगर को फ़िरोज़ शाह तुग़लक़ (राज्यभिषेक 1351 ई.) ने बसाया था। कहा जाता है कि हिसार के पास के वनों में फ़िरोज़ आखेट के लिए रोजाना जाया करता था और उसने यहां एक दुर्ग (हिसार दुर्ग) बनवाया था, जहां कालांतर में आबादी हो गई। हिसार के पास 'अग्राहा' नामक स्थान है, जो प्राचीन 'अग्रोदक' कहा जाता है। यह नगर महाभारत कालीन माना जाता है। अलक्षेंद्र के आक्रमण के समय (327 ई. पू.) इस स्थान पर 'आग्रेयगण' का राज्य था। वासुदेव शरण अग्रवाल का विचार है कि पाणिनि[1] में उल्लिखित 'एषुकारिभक्त' हिसार का ही प्राचीन नाम है। इसे कुरू प्रदेश का एक बड़ा नगर कहा गया है।[2]

18वीं शताब्दी में जनशून्य किए गए इस शहर पर बाद में ब्रिटिश अभियानकर्ता जॉर्ज थॉमस ने क़ब्ज़ा कर लिया। 1867 में हिसार की नगरपालिका का अध्ययन किया गया। यह शहर एक दीवार से घिरा है, जिसमें चार दरवाज़े हैं- 'नागोरी गेट', 'मोरी गेट', 'दिल्ली गेट' तथा 'तलाकी गेट' के नाम से प्रसिद्ध है। यहाँ फ़िरोज़ शाह के क़िले व महल के अवशेषों के साथ-साथ कई प्राचीन मस्जिदें हैं, जिनमें जहाज़ भी एक है, जो अब एक जैन मंदिर है। प्राचीन समय में यह हड़प्पा सभ्यता का मुख्य केन्द्र था। प्राचीन समय में यहाँ कई आदिवासी जातियाँ रहती थी। इन जातियों में भरत, पुरू, मुजावत्स और महावृष प्रमुख थी।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 4, 2, 54
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 1026 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हिसार&oldid=500888" से लिया गया