हरगांव  

स्थानीय किवदंतियों के अनुसार हरगांव एक प्राचीन क़स्बा है जिसकी नींव अयोध्यानरेश महाराज हरिश्चंद्र ने डाली थी।

  • एक खेड़े के खंडहर भी यहाँ मिले हैं।
  • इसके ऊपर पहले एक मंदिर था जिसका स्थान अब एक मस्जिद ने ले लिया है।
  • मंदिर के पास एक सरोवर है जिसके बारे में कहा जाता है कि इसे पाण्डवों ने एक रात में बनवाया था।
  • स्थानीय अनुश्रति में इस स्थान को राजा विराट का नगर माना जाता है।
  • कस्बे के दक्षिण की ओर कीचक़ की समाधि बताई जाती है।
  • यह किंवदंती निस्सार मालूम पड़ती है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. दे. विराटनगर
  • ऐतिहासिक स्थानावली | विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हरगांव&oldid=526131" से लिया गया