Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
स्वर (व्याकरण) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

स्वर (व्याकरण)  

  • स्वतंत्र रूप से बोले जाने वाले वर्ण 'स्वर' कहलाते हैं।
  • व्याकरण में परम्परागत रूप से स्वरों की संख्या 11 मानी गई है।

अ, आ, इ, ई, उ,
ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ,

स्वरों के भेद

स्वरों के दो भेद होते हैं।

ह्रस्व स्वर
  • वह स्वर जिनको सबसे कम समय में उच्चारित किया जाता है। ह्रस्व स्वर कहलाते हैं।
  • जैसे- अ, इ, उ, ऋ
दीर्घ स्वर
  • वह स्वर जिनको बोलने में ह्रस्व स्वरों से अधिक समय लगता है।
  • जैसे- आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=स्वर_(व्याकरण)&oldid=226668" से लिया गया