सूरज कुंड मेरठ  

सूरज कुंड मेरठ में स्थित एक बड़ा कुंड है जिसमें कुछ समय पहले तक स्थायी रूप से पानी रहा करता था, किन्तु अब यह सूख गया है।

  • इस पवित्र कुंड का निर्माण एक धनी व्यापारी जवाहर लाल ने 1714 ई. में करवाया था।
  • प्रारंभ में आबू नाला से इस कुंड को जल प्राप्त होता था। वर्तमान में 'गंग नहर' से इसे जल प्राप्त होता है।
  • सूरज कुंड के चारों ओर मेरठ के कुछ अति महत्त्वपूर्ण तथा प्रचीन मंदिर स्थित हैं, जिनमें 'मनसा देवी मंदिर' और 'बाबा मनोहर नाथ मंदिर' प्रमुख हैं।
  • इनमें कुछ मंदिर नागरी शैली के हैं तथा कुछ मंदिर मराठा शैली के हैं।
  • ये मंदिर शाहजहां के समय में बने थे।
  • इन सब मंदिरों तथा उनके आस पास स्थित समाधियों पर अभिलेख भी मिलते हैं जो इस क्षेत्र के स्वर्णिम इतिहास के गवाह हैं।
  • इन मंदिरों में कुछ ऐसे भी स्थान हैं जो खुद में विशिष्ट हैं, जैसे - प्राचीन सती मंदिर और कुबेर मंदिर आदि।
  • यहां मेरठ का अति प्राचीन गुरुद्वारा भी स्थित है। यहां एक महत्त्वपूर्ण समाधि हिन्दी की खड़ी बोली के आरम्भिक लेखक 'पं. गौरी दत्त' की है ।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सूरज_कुंड_मेरठ&oldid=261049" से लिया गया