सुमित्रा कुमारी सिन्हा  

सुमित्रा कुमारी सिन्हा
सुमित्रा कुमारी सिन्हा
पूरा नाम सुमित्रा कुमारी सिन्हा
जन्म 1913
जन्म भूमि फ़ैज़ाबाद, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 30 सितंबर 1994
संतान पुत्र- अजित शंकर चौधरी, पुत्री- कीर्ति चौधरी
कर्म भूमि भारत
मुख्य रचनाएँ विहाग (1940), आशापर्व (1942), बोलों के देवता (1954)
प्रसिद्धि कवियित्री
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी सुमित्रा कुमारी सिन्हा ने स्वाधीनता आंदोलन में सक्रिय योगदान दिया था।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

सुमित्रा कुमारी सिन्हा (अंग्रेज़ी: Sumitra Kumari Sinha, जन्म- 1913, फ़ैज़ाबाद, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 30 सितंबर 1994) हिन्दी की लोकप्रिय कवियित्री तथा लेखिका थीं।

संक्षिप्त परिचय

  • सुमित्रा कुमारी सिन्हा का जन्म उत्तर प्रदेश के फ़ैज़ाबाद ज़िले में हुआ था।
  • उन्होंने स्वाधीनता आंदोलन में सक्रिय योगदान दिया।
  • सुमित्रा कवि-सम्मेलनों में मधुर कंठ से कविता पाठ भी करती थीं।
  • सुमित्रा कुमारी सिन्हा आकाशवाणी लखनऊ से सम्बद्ध रहीं।
  • उन्होंने बाल साहित्य के क्षेत्र में भी महत्त्वपूर्ण काम किया है।
  • उनके पुत्र अजीत कुमार सिन्हा एक प्रतिभा संपन्न लेखक थे।
  • उनकी पुत्री कीर्ति चौधरी ने तार सप्तक की प्रसिद्ध कवियित्री के रूप में अपनी पहचान बनाई।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सुमित्रा_कुमारी_सिन्हा&oldid=603266" से लिया गया