सीता कुण्ड  

सीता कुण्ड बिहार राज्य के मुंगेर से 6 किमी पूर्व में स्थित पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र है।

  • सीता कुंड का नाम भगवान राम की धर्मपत्‍नी सीता के नाम पर रखा गया है।
  • सीता कुंड को बिहार राज्‍य पर्यटन मंत्रालय ने एक पर्यटक स्‍थल के रूप में विकसित किया है।
  • सीता कुंड में ख़ासकर माघ मास की पूर्णिमा (फरवरी) में स्‍नान करने के लिए भारी संख्‍या में श्रद्धालु आते हैं।

मान्यता

मान्यता है कि जब राम सीता को रावण के चंगुल से छुड़ाकर लाए थे तो उनको अपनी पवित्रता साबित करने के लिए अग्नि परीक्षा देनी पड़ी थी। धर्मशास्‍त्रों के अनुसार अग्नि परीक्षा के बाद सीता माता ने जिस कुंड में स्‍नान किया था यह वही कुंड है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सीता_कुण्ड&oldid=518434" से लिया गया