साहित्य अकादमी  

साहित्य अकादमी
साहित्य अकादमी का प्रतीक चिह्न
उद्देश्य प्रकाशन, अनुवाद, गोष्ठियां, कार्यशालाएं आयोजित करके भारतीय साहित्य के विकास को बढ़ाना
स्थापना 12 मार्च, 1954
मुख्यालय नई दिल्ली
संबंधित लेख साहित्य अकादमी पुरस्कार हिन्दी, ललित कला अकादमी, संगीत नाटक अकादमी
पत्रिकाएँ इंडियन लिटरेचर, समकालीन भारतीय साहित्य, संस्कृत प्रतिभा
अन्य जानकारी साहित्य अकादमी लेखकों को चुनकर सर्वोच्च सम्मान अपनी 'मानद उपाधि' देती है। यह सम्मान अमर साहित्यकारों के लिए सुरक्षित है तथा एक बार में 21 लोगों को दिया जाता है।
बाहरी कड़ियाँ आधिकारिक वेबसाइट

साहित्य अकादमी विभिन्न भाषाओं की कृतियों की राष्ट्रीय अकादमी है। इसका उद्देश्य प्रकाशन, अनुवाद, गोष्ठियां, कार्यशालाएं आयोजित करके भारतीय साहित्य के विकास को बढ़ाना है। इसके अंतर्गत देश भर में सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम और साहित्य सम्मेलन भी आयोजित किए जाते हैं। भारतीय साहित्य का विकास करने तथा उसके स्तर को ऊंचा करने के लिए, सभी भारतीय भाषाओं में साहित्य को परिपोषित करने तथा उनमें समंवय स्थापित करके देश में सांस्कृतिक एकता स्थापित करने के उद्देश्य से भारत सरकार ने 1954 में साहित्य अकादमी की स्थापना की। इस अकादमी के क्षेत्रीय कार्यालय बम्बई, बेंगळूरू, कलकत्ता तथा चेन्नई में स्थित है।

स्थापना

साहित्य अकादमी की स्थापना 12 मार्च, 1954 में स्वायत्त संस्था के रूप में की गई थी और इसके लिए धन की व्यवस्था भारत सरकार का संस्कृति विभाग करता है। अकादमी का समिति के रूप में पंजीकरण 1956 में हुआ था। साहित्य अकादमी ने 24 भाषाओं को मान्यता दे रखी है। प्रत्येक भाषा के लिए सलाहकार बोर्ड है जो संबद्ध भाषा के कामकाज और प्रकाशन के बारे में सलाह देता है। अकादमी के चार क्षेत्रीय बोर्ड हैं जो उत्तर, पश्चिम, पूर्व और दक्षिण की भाषाओं के बीच तालमेल और परस्पर आदान-प्रदान को प्रोत्साहन देते हैं। साहित्य अकादमी का मुख्यालय नई दिल्ली में है तथा कोलकाता, मुम्बई, बैंगलूर और चेन्नई में भी इसके कार्यालय हैं। अकादमी के बैंगलूर और कोलकाता में दो अनुवाद केन्द्र भी हैं। मौखिक और जनजातीय साहित्य को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शिलांग में अकादमी का परियोजना कार्यालय स्थित है तथा दिल्ली में भारतीय साहित्य का अभिलेखागार है। नई दिल्ली में ही अकादमी का अनूठा बहुभाषीय पुस्तकालय भी है। जिसके क्षेत्रीय कार्यालय बैंगलूर और कोलकाता में हैं। इनमें 25 से ज़्यादा भाषाओं की क़रीब डेढ़ लाख पुस्तकों का संग्रह है।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=साहित्य_अकादमी&oldid=604267" से लिया गया