सांख्य चन्द्रिका  

  • सांख्यकारिका की एक अर्वाचीन व्याख्या है जिसके व्याख्याकार नारायणतीर्थ हैं।
  • नारायणतीर्थ सत्रहवीं शती के हैं।
  • इन्हें अन्य भारतीय दर्शनों का भी अच्छा ज्ञान था।
  • सांख्य-चंद्रिका ही संभवत: एक मात्र व्याख्या है जिसमें छठी कारिका में 'सामान्यतस्तु दृष्टात' का अर्थ सामान्यतोदृष्ट अनुमान न लेकर 'सामान्यत: तु दृष्टात्' अर्थ में ही स्वीकार किया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सांख्य_चन्द्रिका&oldid=286140" से लिया गया