सर जॉन शोर  

  • इनके समय में ब्रिटिश संसद ने 1793 ई. का चार्टर एक्ट पास किया था।
  • सर जॉन शोर के काल में निज़ाम और मराठों के बीच 1795 ई. में 'खुर्दा का युद्ध' लड़ा गया।
  • इस समय जॉन शोर ने हस्तक्षेप की नीति का पालन किया था।
  • इन्होंने केवल अवध के मामलें में हस्तक्षेप किया।
  • आसफ़उद्दौला की मुत्यु के बाद अवध में उत्तराधिकार की समस्या शुरू हो गयी थी।
  • आसफ़द्दौला वज़ीर अली को नवाब बनाना चाहता था, किन्तु सर जॉन शोर ने उसकी एक न चलने दी।
  • उन्होंने आसफ़उद्दौला के दूसरे पुत्र 'सआदत अली' को नवाब घोषित किया एवं उसके साथ संधि कर ली।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सर_जॉन_शोर&oldid=186552" से लिया गया