सत्यनारायण व्रत कथा  

सत्यनारायण भगवान का पूजन व कथा प्रत्येक पूर्णिमा को होती है। भगवान सत्यनारायण विष्णु के ही रूप हैं। कथा के अनुसार इन्द्र का दर्प भंग करने के लिए विष्णु जी ने नर और नारायण के रूप में बद्रीनाथ में तपस्या की थी वहीं नारायण सत्य को धारण करते थे अत: सत्य नारायण कहे जाते थे। इनकी पूजा में केले के पत्ते व फल के अलावा पंचामृत, पंच गव्य, सुपारी, पान, तिल, जौ, मोली, रोली, कुमकुम, दूर्वा की आवश्यक्ता होती जिनसे भगवान की पूजा होती है। सत्यनारायण की पूजा के लिए दूध, मधु, केला, गंगाजल, तुलसी पत्ता, मेवा मिलाकर पंचामृत तैयार किया जाता है जो भगवान को काफ़ी पसंद है। इन्हें प्रसाद के तौर पर फल, मिष्ठान के अलावा आटे को भून कर उसमें चीनी मिलाकर प्रसाद बनता है और फिर भोग लगता है।

श्री सत्यनारायण पूजन विधि

जो व्यक्ति सत्यनारायण की पूजा का संकल्प लेते हैं उन्हें दिन भर व्रत रखना चाहिए। पूजन स्थल को गाय के गोबर से पवित्र करके वहाँ एक अल्पना बनाऐं और उस पर पूजा की चौकी रखें। इस चौकी के चारों पाये के पास केले का वृक्ष लगाऐं। इस चौकी पर ठाकुर जी और श्री सत्यनारायण की प्रतिमा स्थापित करें। पूजा करते समय सबसे पहले गणपति की पूजा करें फिर इन्द्रादि दशदिक्पाल की और क्रमश: पंच लोकपाल, राम-सीता सहित लक्ष्मण की, राधा-कृष्ण की। इनकी पूजा के पश्चात् ठाकुर जी व सत्यनारायण की पूजा करें। और संकल्प करें कि मै सत्यनारायण स्वामी का पूजन तथा कथा-श्रवण सदैव करूँगा। इसके बाद लक्ष्मी माता की और अंत में महादेव और ब्रह्मा जी की पूजा करें। पूजा के बाद सभी देवों की आरती करें और चरणामृत लेकर प्रसाद वितरण करें।

बाहरी कड़ियाँ

सत्यनारायण कथा

सत्यनारायण के अध्याय

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सत्यनारायण_व्रत_कथा&oldid=611416" से लिया गया