श्री राधामाधव का मन्दिर वृन्दावन  

  • श्री गोकुलानन्द मन्दिर के उत्तर में भ्रमरघाट के ऊपर प्राचीन यमुना तट पर एक प्राचीन मन्दिर में श्री जयदेव गोस्वामी के द्वारा सेवित श्रीराधामाधव जी विराजमान थे।
  • अब वे जयपुर में घाटी नामक पर्वतीय स्थान में एक बृहद मन्दिर में सेवित हो रहे हैं जो जयपुर का प्रमुख दर्शनीय मन्दिर है।
  • श्री राधामाधव मन्दिर के ईशान-कोण में श्री युगलकिशोर का विशाल मन्दिर शिखर-रहित अवस्था में पड़ा हुआ है (जिसे कनक वृन्दावन कहते हैं)।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=श्री_राधामाधव_का_मन्दिर_वृन्दावन&oldid=286131" से लिया गया