शाफ़ीया  

शाफ़ीया, जो 'मज़हब शाफ़ई' भी कहा जाता है, इस्लाम में सुन्नी संप्रदाय के धार्मिक विधान में चार वर्गों में से एक। यह अबू अब्द अल्लाह अश-शफ़ी (767-820) की शिक्षाओं पर आधारित है।

  • यह वैधानिक संप्रदाय (मज़हब) इस्लामी क़ानूनी सिद्धांत के आधार को स्थिर करता है और अल्लाह की इच्छा तथा मानवीय परिकल्पना, दोनों को मान्यता देता है।
  • परंपरागत सामूहिक जीवन पद्धति 'सुन्नत' को नकारते हुए यह 'हदीस'[1] को यथावत स्वीकारने में विश्वास रखता है। यही क़ानूनी और धार्मिक निर्णयों का प्रमुख आधार है।
  • यदि क़ुरआन या हदीस में कोई स्पष्ट निर्देश न पाए जा सकें, तो 'क़यास'[2] का प्रयोग किया जाए। 'इज्मा'[3] भी स्वीकार्य है, लेकिन उस पर ज़ोर नहीं दिया गया।
  • शाफ़ीया विचारधारा पूर्वी अफ़्रीका, अरब के कुछ भागों तथा इंडोनेशिया में प्रभावी है।[4]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पैग़म्बर के जीवन और उपदेशों से संबंधित परंपराएं
  2. सादृश्यता तर्कविधि
  3. विद्धानों की सहमति
  4. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-5 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली और पॉप्युलर प्रकाशन, मुम्बई |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 287 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शाफ़ीया&oldid=508878" से लिया गया