विश्व दर्शन दिवस  

विश्व दर्शन दिवस
विश्व दर्शन दिवस
विवरण विश्व दर्शन दिवस प्रतिवर्ष नवंबर माह के तीसरे गुरूवार को यूनेस्को के नेतृत्व में मनाया जाता है।
तिथि नवंबर माह का तीसरा गुरूवार
शुरुआत 2002
उद्देश्य इस दिवस का उद्देश्य दार्शनिक विरासत को साझा करने के लिए विश्व के सभी लोगों को प्रोत्साहित करना और नए विचारों के लिये खुलापन लाने के साथ-साथ बुद्धिजीवियों एवं सभ्य समाज को सामाजिक चुनौतियों से लड़ने के लिए विचार विर्मश को प्रेरित करना है।
अन्य जानकारी वर्ष 2005 में यूनेस्को सम्मेलन में यह निश्चय हुआ कि प्रत्येक वर्ष विश्व दर्शन दिवस नवंबर महीने के तीसरे गुरूवार को मनाया जायेगा।
अद्यतन‎

विश्व दर्शन दिवस (अंग्रेजी: World Philosophy Day) प्रतिवर्ष नवंबर माह के तीसरे गुरूवार को यूनेस्को के नेतृत्व में मनाया जाता है। इस मौके पर दर्शन के गंभीर और महत्वपूर्ण सवालों पर सारी दुनिया में और खासकर यूनेस्को के पेरिस स्थित मुख्यालय में विचार विमर्श होता है। उत्तर आधुनिकतावाद के अवसान की बेला में उसकी ओर एकबार देख लेना,उसका पुनर्पाठ कर लेना समीचीन होगा। वे कौन से मुद्दे थे जो विवाद के केन्द्र में रहे और अंत में हम उन पर विवाद करते हुए कहाँ पहुँचे ? उत्तर आधुनिकतावाद में कुछ बातें साझा हैं जिन पर सहमति है,वे हैं- उत्तर आधुनिकतावाद का संचार क्रांति से गहरा संबंध है। कम्प्यूटर केन्द्रित संचार क्रांति सामाजिक-आर्थिक और डिजिटल असमानता पैदा करती है। उत्तर आधुनिकतावाद ने संशय, अविश्वास और बेगानेपन को बुलंदियों पर पहुँचाया है। राजनीति से लेकर संस्कृति और मासकल्चर से लेकर लोक संस्कृति को ग्लोबल-लोकल (ग्लोकल) बनाया है।

शुरुआत

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 1.4 1.5 18 नवम्बर दर्शन दिवस के अवसर पर विशेष-इतिहास का अंत (हिन्दी) pravakta.com। अभिगमन तिथि: 18 अगस्त, 2017।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=विश्व_दर्शन_दिवस&oldid=620298" से लिया गया