लोहानीपुर  

लोहानीपुर पटना, बिहार का एक उपनगर है। यह स्थान ऐतिहासिक दृष्टिकोण से काफ़ी महत्त्वपूर्ण है। इस स्थान से मौर्य काल की दिगंबर जैन मूर्तियां प्राप्त हुईं हैं, जिनका विवरण जैन ऐंटिक्वेरी भाग-5, अंक-3 में है।[1]

  • इस स्थान से मूर्तियाँ 14 फ़रवरी, 1937 ई. को प्राप्त हुई थीं।
  • यहाँ से प्राप्त मूर्तियों में से एक मूर्ति तीर्थंकर महावीर की है। यह चुनार के बलुआ पत्थर के एक ही खंड से कटी हुई हैं।
  • मूर्ति पर बहुत सुंदर और चमकदार प्रमार्जन है, जो मौर्य काल की कला की विशेषता थी।
  • लगभग दो सहस्त्र वर्ष प्राचीन होते हुए भी इस मूर्ति के प्रमार्जन में तनिक भी मैलापन दिखाई नहीं देता है।
  • कहा जाता है कि 'पटना संग्रहालय' में सुरक्षित इस मूर्ति से अधिक सुंदर प्रमार्जित मूर्ति भारत भर में दूसरी नहीं है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 824 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=लोहानीपुर&oldid=506458" से लिया गया