लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय  

  • लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय 1910 ई. से 1916 ई. तक भारत का वाइसराय रहा।
  • लॉर्ड मिण्टो द्वितीय के बाद उसे भारत का वाइसराय बनाकर भेजा गया था।
  • उसके समय का सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य ब्रिटेन के राजा 'जार्ज पंचम' का भारत आगमन (12 दिसम्बर, 1911) था।
  • दिल्ली में एक भव्य दरबार का आयोजन, बंगाल विभाजन को रद्द करने की घोषणा एवं भारत की राजधानी कलकत्ता से दिल्ली स्थानान्तरित करने की घोषणा, ये कुछ प्रमुख तथ्य थे।
  • 23 दिसम्बर, 1912 ई. को जिस समय लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय दिल्ली में प्रवेश कर रहे थे, उन पर एक बम फेंका गया, जिसमें वे घायल हुए।
  • 4 अगस्त, 1914 ई. को हार्डिंग के काल में ही 'प्रथम विश्वयुद्ध' प्रारम्भ हुआ।
  • इसके समय में 1913 ई. में फ़िरोजशाह मेहता ने 'बाम्बे क्रानिकल' एवं गणेश शंकर विद्यार्थी ने 'प्रताप' का प्रकाशन किया।
  • लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय समय में ही तिलक तथा एनी बेसेन्ट ने क्रमशः अप्रैल व सितम्बर 1915 ई. में होमरूल लीग की स्थापना की।
  • 1916 ई. में लॉर्ड हार्डिंग को बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय का कुलाधिपति नियुक्त किया गया।
  • इसका शासन काल भारत में लोकप्रिय रहा था।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=लॉर्ड_हार्डिंग_द्वितीय&oldid=211068" से लिया गया