रोहिणीचंद्रशयन  

रोहिणीचंद्रशयन नाम के व्रत का उल्लेख 'मत्स्यपुराण'[1] में बड़े विस्तार से है[2] तक तथा 'पद्मपुराण'[3] में भी लगभग उसी प्रकार के श्लोक आये हैं। यहाँ चन्द्रमा के नाम से भगवान विष्णु की पूजा वर्णित है।

  • यदि पूर्णिमा के दिन सोमवार हो अथवा रोहिणी नक्षत्र हो तो व्रती को पंचगव्य तथा सरसों के उबटन से स्नान करने के बाद ऋग्वेद का मंत्र 'आप्यायस्व'[4] 108 बार बोलना चाहिए तथा शूद्र व्रती को यह बोलना चाहिए- 'सोमाय नम: विष्णवे नम:'।
  • व्रती को फल तथा फूलों से भगवान की पूजा करके सोम का नामोच्चारण करते हुए रोहिणी को प्रणाम करना चाहिए।
  • व्रती को इस अवसर पर गोमूत्र का पान करना चाहिए।
  • 28 विभिन्न पुष्प चंद्रमा को अर्पित करने चाहिए।
  • यह व्रत एक वर्ष तक लगातार चलता रहना चाहिए।
  • वर्ष के अन्त में पर्यङ्कोपयोगी वस्त्र तथा चंद्रमा और रोहिणी की सुवर्ण प्रतिमाओं के दान का विधान है।
  • इस समय यह प्रार्थना भी करनी चाहिए कि हे विष्णो! जिस प्रकार आपको, जो सोमरूप हैं, छोड़कर रोहिणी कहीं नहीं जाती, उसी प्रकार समृद्धि मुझे छोड़कर कहीं न जाये।
  • इस व्रत को पूर्ण करने से सौंदर्य, स्वास्थ्य, दीर्घायु के साथ-साथ व्रती चंद्रलोक प्राप्त करता है।
  • कृत्यकल्पतरु तथा हेमाद्रि इस व्रत को 'चंद्ररोहिणीशयन' नाम से भी बतलाते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=रोहिणीचंद्रशयन&oldid=266612" से लिया गया