राष्ट्रीय विज्ञान व तकनीक संचार परिषद  

राष्ट्रीय विज्ञान व तकनीक संचार परिषद (NCSTC) का कार्य विज्ञान व तकनीक को लोगों तक पहुँचाना है। यह परिषद् विज्ञान व तकनीक के क्षेत्र में शोध तथा विज्ञान के प्रसार के लिए विभिन्न कार्यक्रमों को बढ़ावा देती है।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के नए क्षेत्रों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से और देश में एक नोडल विभाग की भूमिका निभाने के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी गतिविधियों के आयोजन, समन्वय और इसको बढ़ावा देने के लिए मई 1971 में स्थापित किया गया था।

उद्देश्य

विभाग पर इन विशिष्ट परियोजनाओं और कार्यक्रमों की प्रमुख जिम्मेदारियां हैं -

  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी से संबंधित नीतियों का निर्माण।
  • कैबिनेट की वैज्ञानिक सलाहकार समिति से संबंधित मामले (एसएसीसी)।
  • उभरते हुए क्षेत्रों पर विशेष जोर देने के साथ विज्ञान और प्रौद्योगिकी के नए क्षेत्रों को बढ़ावा देना।
  • जैव ईंधन उत्पादन, प्रसंस्करण, मानकीकरण और अनुप्रयोगों के स्वदेशी प्रौद्योगिकी के विकास के लिए अपने अनुसंधान संस्थानों या प्रयोगशालाओं के माध्यम से *अनुसंधान और विकास के विषय में संबंधित मंत्रालय या विभाग के साथ समन्वय ;
  • उप उत्पादों से मूल्य वर्धित रसायन विकास के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए अनुसंधान और विकास गतिविधियां।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

Swachh Bharat

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राष्ट्रीय_विज्ञान_व_तकनीक_संचार_परिषद&oldid=636569" से लिया गया