राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय  

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय का प्रतीक चिह्न
उद्देश्य रंगमंच के इतिहास, प्रस्तुतिकरण, दृश्य डिजायन, वस्त्र डिजायन, प्रकाश व्यवस्था और रूप-सज्जा सहित रंगमंच के सभी पहलुओं का प्रशिक्षण देना
स्थापना संगीत नाटक अकादमी ने 1959 में की थी। इसे 1975 में स्वायत्त संगठन का दर्जा दिया गया, जिसका पूरा खर्च संस्कृति विभाग वहन करता है।
मुख्यालय दिल्ली
अध्यक्ष रतन थियम
निदेशक वामन केन्द्रे
अन्य जानकारी बाल रंगमंच को बढ़ावा देने की दिशा में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय का महत्त्वपूर्ण योगदान है। यह महोत्सव हर वर्ष नवंबर में 'जश्ने बचपन' के नाम से आयोजित किया जाता है।
बाहरी कड़ियाँ आधिकारिक वेबसाइट
अद्यतन‎

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (National School of Drama or NSD) रंगमंच का प्रशिक्षण देने वाली सबसे महत्त्वपूर्ण संस्था है जो दिल्ली में स्थित है।

स्थापना

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व में रंगमंच का प्रशिक्षण देने वाले श्रेष्ठतम संस्थानों में से एक है तथा भारत में यह अपनी तरह का एकमात्र संस्थान है। जिसकी स्थापना संगीत नाटक अकादमी ने 1959 में की थी। इसे 1975 में स्वायत्त संगठन का दर्जा दिया गया, जिसका पूरा खर्च संस्कृति विभाग वहन करता है।

उद्देश्य

राष्ट्रीय नाटक विद्यालय का उद्देश्य रंगमंच के इतिहास, प्रस्तुतिकरण, दृश्य डिजायन, वस्त्र डिजायन, प्रकाश व्यवस्था और रूप-सज्जा सहित रंगमंच के सभी पहलुओं का प्रशिक्षण देना है।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राष्ट्रीय_नाट्य_विद्यालय&oldid=509802" से लिया गया