राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस  

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस
राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस
विवरण 'राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस' मानव का भगवान कहे जाने वाले चिकित्सकों को समर्पित है। भारत में इस दिन स्वतंत्रता सेनानी और चिकित्सक बिधान चन्द्र राय को भी याद किया जाता है।
भारत में शुरुआत 1991 से
मनाने की तिथि 1 जुलाई
महत्त्व 'चिकित्सक दिवस' मनाने का महत्त्व यह है कि सभी चिकित्सक अपनी ज़िम्मेदारियों को समझें और लोगों के स्वास्थ्य से सम्बन्धित दु:ख, तकलीफ और रोग आदि के प्रति सजग रहें।
स्मृति बिधान चन्द्र राय
अन्य जानकारी 'राष्ट्रीय चिकित्सा दिवस' अलग-अलग देशों में भिन्न-भिन्न तिथियों पर मनाया जाता है। भारत में यह दिवस डॉक्टर बिधान चन्द्र राय की स्मृति में प्रतिवर्ष 1 जुलाई को मनाया जाता है।

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस (अंग्रेज़ी: National Doctor's Day) पृथ्वी पर मानवों का भगवान कहे जाने वाले चिकित्सकों को समर्पित है। अलग-अलग देशों में यह दिवस भिन्न-भिन्न तिथियों पर मनाया जाता है। भारत में 'चिकित्सक दिवस' प्रतिवर्ष 1 जुलाई को मनाया जाता है। इस ख़ास दिन पर पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री बिधान चन्द्र राय को भी याद किया जाता है। बिधान चन्द्र राय देश के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ-साथ एक चिकित्सक भी थे। आज़ादी के बाद उन्होंने अपना सारा जीवन लोगों के लिए चिकित्सा सेवा को समर्पित कर दिया। बिधान चन्द्र राय की स्मृति में ही 'राष्ट्रीय चिकित्सा दिवस' भारत में 1 जुलाई को मनाया जाता है।

शुरुआत

चिकित्सकों का महत्त्व रेखांकित करने की आवश्यकता अमेरिका के जॉर्जिया निवासी डॉ. चार्ल्स बी आल्मोंद की पत्नी यूदोरा ब्राउन आल्मोंद ने महसूस की थी। उनके प्रयासों से ही पहली बार 30 मार्च, 1930 को अमेरिका में 'डॉक्टर्स डे' (चिकित्सक दिवस) मनाया गया। इस दिन को मनाने के पीछे चिकित्सकों का दैनिक जीवन में महत्त्व बताने की भावना प्रमुख थी। इसके लिए 30 मार्च की तारीख़ इसलिए चुनी गई थी, क्योंकि जॉर्जिया में इसी दिन डॉ. क्राफोर्ड डब्ल्यू लोंग ने पहली बार ऑपरेशन के लिए एनेस्थीसिया का इस्तेमाल किया था। इसीलिए तब से 'चिकित्सक दिवस' मनाने का चलन शुरू हो गया।[1]

भारत में चिकित्सक दिवस

अलग-अलग देशों में 'चिकित्सक दिवस' अलग-अलग तिथि को मनाया जाता है। भारत में 1 जुलाई का दिन चिकित्सकों के लिए समर्पित है। वर्ष 1991 से भारत में इस दिन को 'राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस' के रूप में मनाने की शुरूआत हुई थी। 1 जुलाई को देश के प्रख्यात चिकित्सक, स्वतंत्रता सेनानी और समाज सेवी डॉ. बिधान चन्द्र राय का जन्मदिन और पुण्य तिथि दोनों ही हैं। 1 जुलाई, 1882 को बिहार में जन्मे बिधान चन्द्र राय 'भारतीय स्वतंत्रता संग्राम' के एक अहम सिपाही रहे थे। आज़ादी के बाद उन्होंने अपना सारा जीवन अपने व्यवसाय यानि चिकित्सा सेवा को समर्पित कर दिया। पश्चिम बंगाल में अपने मुख्यमंत्री काल के दौरान उन्होंने कई अहम विकास कार्य किए। अपने अथक प्रयासों और समाज कल्याण के कार्यों के लिए उन्हें 1961 में भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' से भी सम्मानित किया गया था। 1 जुलाई, 1962 को उनका निधन हुआ।

इन्हें भी देखें: बिधान चंद्र राय

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. चिकित्सक की पहली प्राथमिकता होता है मरीज (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 01 जुलाई, 2013।
  2. जिन्दा है सेवा भाव (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 01 जुलाई, 2013।
  3. 3.0 3.1 डॉक्टरों के आत्ममंथन का दिन (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 01 जुलाई, 2013।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राष्ट्रीय_चिकित्सक_दिवस&oldid=632112" से लिया गया