रानी की वाव  

रानी की वाव
रानी की वाव
विवरण 'रानी की वाव' एक भूमिगत संरचना है, जिसमें सीढ़ीयों की एक श्रृंखला, चौड़े चबूतरे, मंडप और दीवारों पर मूर्तियां बनी हैं।
राज्य गुजरात
ज़िला पाटण
निर्माता रानी उदयामती
निर्माण काल वर्ष 1063
भौगोलिक स्थिति 23° 51′ 32.11″ उत्तर, 72° 6′ 5.83″ पूर्व
प्रसिद्धि विश्व विरासत स्थल सूची में शामिल[1]
अन्य जानकारी रानी की वाव को रानी उदयामती ने अपने पति राजा भीमदेव की याद में बनवाया था। राजा भीमदेव गुजरात के सोलंकी राजवंश के संस्थापक थे।
अद्यतन‎

रानी की वाव (अंग्रेज़ी:Rani ki vav) भारत के गुजरात राज्य के पाटण ज़िले में स्थित प्रसिद्ध बावड़ी (सीढ़ीदार कुआँ) है। 23 जून, 2014 को इसे यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल में सम्मिलित किया गया।[1] बावड़ी में बनी बहुत-सी कलाकृतियों की मूर्तियों में ज्यादातर भगवान विष्णु से संबंधित हैं। भगवान विष्णु के दशावतार के रूप में ही बावड़ी में मूर्तियों का निर्माण किया गया है, जिनमे मुख्य रूप से कल्कि, राम, कृष्णा, नरसिम्हा, वामन, वाराही और दुसरे मुख्य अवतार भी शामिल हैं। इसके साथ-साथ बावड़ी में नागकन्या और योगिनी जैसी सुंदर अप्सराओं की कलाकृतियाँ भी बनायी गयी हैं। बावड़ी की कलाकृतियों को अद्भुत और आकर्षित रूप में बनाया गया है।

इतिहास

रानी की वाव को रानी उदयामती ने अपने पति राजा भीमदेव की याद में वर्ष 1063 ई. में बनवाया था। राजा भीमदेव गुजरात के सोलंकी राजवंश के संस्थापक थे। भूगर्भीय बदलावों के कारण आने वाली बाढ़ और लुप्त हुई सरस्वती नदी के कारण यह बहुमूल्य धरोहर तकरीबन 700 सालों तक गाद की परतों तले दबी रही। बाद में भारतीय पुरातत्व विभाग ने इसे खोजा। वाव के खंभे सोलंकी वंश और उसके आर्किटेक्चर के नायाब नमूने हैं। वाव की दीवारों और खंभों पर ज्यादातर नक्काशियां राम, वामन, महिषासुरमर्दिनी, कल्कि जैसे अवतारों के कई रूपों में भगवान विष्णु को समर्पित हैं। इस वाव में एक छोटा द्वार भी है, जहां से 30 किलोमीटर लम्बी सुरंग निकलती है। रानी की वाव ऐसी इकलौती बावड़ी है, जो विश्व धरोहर सूची में शामिल हुई है।[2]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 रानी की वाव विश्व विरासत घोषित (हिंदी) लाइव हिंदुस्तान। अभिगमन तिथि: 1 जुलाई, 2014।
  2. व‌र्ल्ड हेरिटेज की लिस्ट में भारत की दो साइट्स शामिल (हिंदी) जागरण डॉट कॉम। अभिगमन तिथि: 1 जुलाई, 2014।
  3. विश्व विरासत बनी रानी की वाव (हिंदी) राजस्थान पत्रिका। अभिगमन तिथि: 1 जुलाई, 2014।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=रानी_की_वाव&oldid=633858" से लिया गया