राजेंद्र कुमार  

राजेंद्र कुमार
राजेंद्र कुमार
पूरा नाम राजेंद्र कुमार तुली
प्रसिद्ध नाम राजेंद्र कुमार
अन्य नाम जुबली कुमार
जन्म 20 जुलाई, 1929
जन्म भूमि सियालकोट, पाकिस्तान
मृत्यु 12 जुलाई, 1999
मृत्यु स्थान मुम्बई, महाराष्ट्र
पति/पत्नी शुक्ला कुमार
संतान पुत्र- कुमार गौरव
कर्म भूमि मुम्बई
कर्म-क्षेत्र अभिनेता, निर्माता व निर्देशक
मुख्य फ़िल्में 'गूंज उठी शहनाई', 'ललकार', मदर इंडिया, 'दिल एक मंदिर', ‘धूल का फूल’, ‘मेरे महबूब’, ‘आई मिलन की बेला’, ’संगम’, ‘आरजू’ , ‘सूरज’ आदि।
पुरस्कार-उपाधि पद्म श्री
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी बतौर निर्माता-निर्देशक उनकी पहली फ़िल्म थी- 'लव स्टोरी', जो अपने समय की बड़ी हिट मानी जाती है। इसमें उन्होंने अपने सुपुत्र कुमार गौरव को लिया था। साथ ही उन्होंने 'फूल', 'जुर्रत', 'नाम', 'लवर्स' आदि फ़िल्मों का निर्माण भी किया।

राजेंद्र कुमार (अंग्रेज़ी: Rajendra Kumar, जन्म- 20 जुलाई, 1929; मृत्यु- 12 जुलाई, 1999) भारतीय फ़िल्म अभिनेता थे। राजेन्द्र कुमार 1960 और 1970 के दशक में फ़िल्मों में सक्रिय थे। उन्होंने फ़िल्मों में अभिनय करने के अलावा कई फ़िल्मों का निर्माण और निर्देशन भी किया था। हिन्दी फ़िल्मों में अपने सफल अभिनय और बेमिसाल अदाकारी की वजह से राजेन्द्र कुमार ने जो स्थान बनाया है, वहां तक पहुंचना हर अभिनेता का सपना होता है। राजेन्द्र कुमार की हर फ़िल्म इतनी हिट होती थी कि वह कई सालों तक बेहतरीन बिजनेस किया करती थी और यही वजह थी कि लोग उन्हें ‘जुबली कुमार’ के नाम से पुकारते थे। अपने रोमांटिक व्यक्तित्व की उन्होंने सिनेमा जगत् में ऐसी छटा बिखेरी की, उनकी फ़िल्में एक यादगार बन गईं। फ़िल्म 'आरजू' हो या 'आई मिलन की बेला' हर फ़िल्म में राजेन्द्र कुमार का एक अलग ही स्वरूप दर्शकों ने देखा।

जीवन परिचय

पश्चिम पंजाब के सियालकोट में 20 जुलाई, 1929 को जन्मे राजेन्द्र कुमार बचपन से ही अभिनेता बनने की चाह रखते थे। एक मध्यम वर्गीय परिवार से होने के बावजूद उन्होंने उम्मीदों का दामन नहीं छोड़ा। मुंबई में अपनी किस्मत आजमाने के लिए उन्होंने पिता द्वारा दी गई घड़ी को बेचा था, पर मुंबई आकर अपनी किस्मत बदलने का हौसला उन्होंने किसी से नहीं लिया था। राजेन्द्र कुमार सुंदर होने के साथ-साथ मानसिक रूप से भी बहुत ही दृढ़ अभिनेता थे। 21 साल की उम्र में ही उन्हें फ़िल्मों में काम करने का पहला मौका मिला। एक अभिनेता के तौर पर पहली बार उन्हें दिलीप कुमार अभिनीत फ़िल्म "जोगन" में एक छोटा-सा किरदार निभाने को मिला था। यहीं से वह लगातार सफलता प्राप्त करते गए। पहली बार फ़िल्म ‘जोगन’ में उन्होंने अभिनय किया और उसके बाद अपने हर रोल में वह खुद ब खुद फिट होते चले गए। इसके बाद ‘गूंज उठी शहनाई’ में पहली बार वह एक अभिनेता के तौर पर दिखे। वर्ष 1957 में प्रदर्शित महबूब खान की फ़िल्म ‘मदर इंडिया’ में राजेंद्र कुमार ने जो अभिनय किया, उसे देख आज भी लोग प्रफुल्लित हो उठते हैं। 'मदर इंडिया' के बाद राजेन्द्र कुमार ने ‘धूल का फूल’, ‘मेरे महबूब’, ‘आई मिलन की बेला’, ’संगम’, ‘आरजू’ , ‘सूरज’ आदि जैसे सफल फ़िल्मों में काम किया।[1]
राजेंद्र कुमार

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जन्मदिन विशेषांक : राजेन्द्र कुमार (हिंदी) जागरण जंक्शन। अभिगमन तिथि: 20 जुलाई, 2013।
  2. हिंदी फ़िल्मों के जुबली स्टार थे राजेन्द्र कुमार (हिंदी) पंजाब केसरी। अभिगमन तिथि: 20 जुलाई, 2013।
  3. राजेन्द्र कुमार – रोमांटिक रोल के कलाकार (हिंदी) ज्ञान सागर हिंदी वेबसाइट। अभिगमन तिथि: 20 जुलाई, 2013।
  4. 4.0 4.1 4.2 रोमांटिक अभिनेता थे राजेन्द्र कुमार (हिंदी) बॉलीवुड ब्लॉग। अभिगमन तिथि: 20 जुलाई, 2013।

संबंधित लेख


और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राजेंद्र_कुमार&oldid=633439" से लिया गया