टोडरमल  

(राजा टोडरमल से पुनर्निर्देशित)


राजा टोडरमल मुग़ल काल में सम्राट अकबर के नवरत्नों में से एक थे। टोडरमल खत्री जाति के थे और उनका वास्तविक नाम 'अल्ल टण्डन' था। राजा टोडरमल का जन्म स्थान अवध प्रान्त के सीतापुर ज़िले के अन्तर्गत तारापुर नामक ग्राम है यद्यपि कुछ इतिहासज्ञ लाहौर के पास चूमन गाँव को इनका जन्मस्थान बतलाते हैं, पर वहाँ के भग्नावशेष ऐसे ऐश्वर्य का पता देते हैं जो इनके माता–पिता के पास नहीं था। इनके पिता इन्हें बचपन में ही छोड़कर स्वर्ग सिधारे थे और इनकी विधवा माता ने किसी प्रकार से इनका पालन-पोषण किया था। कुछ बड़े होने पर माता की आज्ञा से यह दिल्ली आए और सौभाग्य से वहाँ पर उनकी नौकरी लग गई।

चार हज़ारी मनसब

वह समझदार लेखक और वीर सम्मतिदाता थे। अकबर की कृपा[1] से बड़ी उन्नति करके चार हज़ारी मनसब और अमीरी और सरदारी की पदवी तक पहुँच गए।

अठारहवें वर्ष में [2]अकबर के राज्य के 9वें वर्ष सन् 1564 ई. में टोडरमल ने मुजफ़्फ़र ख़ाँ की अधीनता में कार्य आरम्भ किया था

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अकबर की सेवा में आने से पहले टोडरमल शेरशाह की नौकरी कर चुके थे। 'तारीख़े–ख़ानेजहाँ लोदी' में लिखा है कि शेरशाह ने टोडरमल को दुर्ग रोहतास बनवाने पर नियुक्त किया था; पर गक्खर जाति एका करके किसी के भी काम में बाधा डालती रही। टोडरमल ने जब यह वृत्तान्त शेरशाह से कहा, तब उसने उत्तर दिया कि धन के लोभी बादशाहों की आज्ञा पूरी नहीं कर सकते। इस पर उन्होंने एक–एक पत्थर होने की एक–एक अशरफ़ी मज़दूरी लगा दी जिस पर इतनी भीड़ हुई कि आप से आप मज़दूरी अपने भाव पर आ लगी। जब दुर्ग तैयार हो गया तब शेरशाह ने उनकी बहुत प्रशंसा की थी।
  2. अकबर के राज्य के 9वें वर्ष सन् 1564 ई. में टोडरमल ने मुजफ़्फ़र ख़ाँ की अधीनता में कार्य आरम्भ किया था तथा इसके दूसरे वर्ष अलीकुली ख़ाँ ख़ानेजमाँ के विद्रोह करने पर यह मीर मुईजुलमुल्क के सहायतार्थ लश्कर ख़ाँ मीरबख्श के साथ लेकर गए थे। युद्ध में बादशाही सेना परास्त हुई और ख़ानेजमाँ का भाई बहादुर ख़ाँ विजयी हुआ। - 'बदायूँनी' भाग 2, पृ0 80-81 और 'तबफ़ाते-अकबरी', इलि0 डा., भाग 5, पृ0 303-4)।
  3. बदायूनी भाग 2, पृ0 144 में लिखता है कि इनकी राय में वह अजेय नहीं था और उसके जीतने के लिए बादशाह के वहाँ जाने की भी आवश्यकता नहीं थी। अठारहवें वर्ष के आरम्भ में टोडरमल पंजाब भेजे गए कि वहाँ के प्रबन्ध में अपने अनुभव से सूबेदार हुसैन कुली ख़ाँ ख़ानेजहाँ की सहायता पहुँचावें। इसके बाद से मआसिरुलउमरा में टोडरमल का जीवनवृन्त आरम्भ होता है।
  4. तबकाते अकबरी (इलि0 डाउ0, भा0 5, पृ0 372-390) विस्तृत विवरण दिया हुआ है।
  5. तबकात में लिखा है कि 22वें वर्ष के अन्त में 500 हाथी लेकर दरबार में आए थे। इलि0 डा., भाग 5, पृ0 402 ।
  6. अहमदाबाद से बारह कोस पर घोलका स्थान में युद्ध हुआ था।
  7. 26वें वर्ष में जब मुजफ़्फ़र ख़ाँ की कड़ाई से बादशाही सरदार भी विद्रोहियों से मिल गए तथा उसकी मृत्यु पर बिहार तथा बंगाल के बहुत भाग पर अधिकार भी कर लिया, जब टोडरमल वहाँ पर शान्ति स्थापित करने के लिए भेजे गए। मासूम काबूली, काकशाल सरदारों तथा मिर्जा शहफ़ुद्दीन हुसैन ने 30,000 सेना के साथ इन्हें मुंगेर में घेर लिया। हुमायूँ की फ़र्माली और तर्खान दीवानः बलवाइयों से मिल गए। सामान की भी कमी थी। पर सब कष्ट सहने करते हुए तथा बादशाही सरदारों को, जो कि विद्रोही हो गए थे, शान्त कर मिलाते हुए टोडरमल ने अन्त में वहाँ पर शान्ति स्थापित की। - ब्लोकमैन, आइने अकबरी, पृष्ठ संख्या- 351-2, इलि0 डा., भा0 5, पृ0 414-421)
  8. यह अंशतः अकबर नामे से लिया गया है। (अकबरनामा, इलि0 डा., भा0 6, पृष्ठ संख्या 61-65)
  9. पहले तहसील के काग़ज़ पत्र हिन्दी में रहते थे और हिन्दू लेखकगण ही लिखते–पढ़ते थे; पर इन्हीं टोडरमल के प्रस्ताव पर सब काम फ़ारसी में होने लगा और तब हिन्दुओं ने भी फ़ारसी भाषा का अध्ययन किया। कुछ ही दिनों में ऐसी योग्यता प्राप्त कर ली कि वे मुसलमानों के फ़ारसी भाषा के उस्ताद बन बैठे थे
  10. आचार्य, रामचंद्र शुक्ल “प्रकरण 5”, हिन्दी साहित्य का इतिहास (हिन्दी)। भारतडिस्कवरी पुस्तकालय: कमल प्रकाशन, नई दिल्ली, पृष्ठ सं. 144।
  11. इसके एक दूसरे लड़के का नाम गोवर्धन था, जिसे बादशाह ने अवर बहादुर का पीछा करने भेजा था, जो बंगाल से परास्त होकर जौनपुर चला आया था। जब उसने उसे लड़ाई में हरा दिया, तब वह पहाड़ों में भाग गया। (मआसिरुल उमरा, अंग्रेज़ी पृ0 267)

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=टोडरमल&oldid=605267" से लिया गया