मैनुअल आरों  

मैनुअल आरों
मैनुअल आरों
पूरा नाम मैनुअल आरों
जन्म 30 दिसम्बर, 1935
जन्म भूमि म्यांमार
कर्म भूमि भारत
खेल-क्षेत्र शतरंज मास्टर
शिक्षा स्नातक
विद्यालय इलाहाबाद विश्वविद्यालय
पुरस्कार-उपाधि अर्जुन पुरस्कार
प्रसिद्धि भारतीय शतरंज खिलाड़ी
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख परिमार्जन नेगी, विश्वनाथन आनंद
अन्य जानकारी मैनुअल आरों ने भारत में शतरंज के खेल की वास्तविक शुरुआत की और विश्व-शतरंज में भारत की उभरती हुई शक्ति का अहसास कराने में मुख्य भूमिका निभाई।

मैनुअल आरों (अंग्रेज़ी: Manuel Aaron, जन्म-30 दिसम्बर, 1935, म्यांमार) प्रथम भारतीय शतरंज मास्टर हैं। 1960 से 1980 तक भारत में शतरंज में उनका बोलबाला था। मैनुअल आरों 1959 और 1981 के बीच नौ बार भारत के राष्ट्रीय चैम्पियन रहे। वह भारत के प्रथम खिलाड़ी है, जिन्हें 'अंतरराष्ट्रीय मास्टर खिताब' से किया जा चुका है। वे प्रथम शतरंज खिलाड़ी हैं, जिन्हें ‘अर्जुन पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया है।

परिचय

मैनुअल आरों का जन्म 30 दिसम्बर सन 1935 को बर्मा (वर्तमान म्यांमार) में हुआ था। उनके माता-पिता भारतीय थे। मैनुअल आरों भारतीय राज्य तमिलनाडु में पले बढ़े। यहीं उन्होंने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा भी पूर्ण की। उन्होंने अपनी बी.एस.सी की डिग्री इलाहाबाद विश्वविद्यालय से प्राप्त की।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मैनुअल_आरों&oldid=616281" से लिया गया