मूर्ति कला मथुरा  

ब्रज विषय सूची
मूर्ति कला मथुरा
ब्रज के विभिन्न दृश्य
विवरण भागवत में ‘ब्रज’ क्षेत्र विशेष को इंगित करते हुए ही प्रयुक्त हुआ है। वहाँ इसे एक छोटे ग्राम की संज्ञा दी गई है। उसमें ‘पुर’ से छोटा ‘ग्राम’ और उससे भी छोटी बस्ती को ‘ब्रज’ कहा गया है। 16वीं शताब्दी में ‘ब्रज’ प्रदेश के अर्थ में होकर ‘ब्रजमंडल’ हो गया और तब उसका आकार 84 कोस का माना जाने लगा था।
ब्रज क्षेत्र आज जिसे हम ब्रज क्षेत्र मानते हैं उसकी दिशाऐं, उत्तर दिशा में पलवल (हरियाणा), दक्षिण में ग्वालियर (मध्य प्रदेश), पश्चिम में भरतपुर (राजस्थान) और पूर्व में एटा (उत्तर प्रदेश) को छूती हैं।
ब्रज के केंद्र मथुरा एवं वृन्दावन
ब्रज के वन कोटवन, काम्यवन, कुमुदवन, कोकिलावन, खदिरवन, तालवन, बहुलावन, बिहारवन, बेलवन, भद्रवन, भांडीरवन, मधुवन, महावन, लौहजंघवन एवं वृन्दावन
भाषा हिंदी और ब्रजभाषा
प्रमुख पर्व एवं त्योहार होली, कृष्ण जन्माष्टमी, यम द्वितीया, गुरु पूर्णिमा, राधाष्टमी, गोवर्धन पूजा, गोपाष्टमी, नन्दोत्सव एवं कंस मेला
प्रमुख दर्शनीय स्थल कृष्ण जन्मभूमि, द्वारिकाधीश मन्दिर, राजकीय संग्रहालय, बांके बिहारी मन्दिर, रंग नाथ जी मन्दिर, गोविन्द देव मन्दिर, इस्कॉन मन्दिर, मदन मोहन मन्दिर, दानघाटी मंदिर, मानसी गंगा, कुसुम सरोवर, जयगुरुदेव मन्दिर, राधा रानी मंदिर, नन्द जी मंदिर, विश्राम घाट , दाऊजी मंदिर
संबंधित लेख ब्रज का पौराणिक इतिहास, ब्रज चौरासी कोस की यात्रा, मूर्ति कला मथुरा
अन्य जानकारी ब्रज के वन–उपवन, कुन्ज–निकुन्ज, श्री यमुना व गिरिराज अत्यन्त मोहक हैं। पक्षियों का मधुर स्वर एकांकी स्थली को मादक एवं मनोहर बनाता है। मोरों की बहुतायत तथा उनकी पिऊ–पिऊ की आवाज़ से वातावरण गुन्जायमान रहता है।

मूर्ति कला मथुरा : मूर्ति कला मथुरा 2 : मूर्ति कला मथुरा 3 : मूर्ति कला मथुरा 4 : मूर्ति कला मथुरा 5 : मूर्ति कला मथुरा 6


मूर्ति कला / संग्रहालय

कलाकृतियों की प्राप्ति और उनका संग्रह

मथुरा की कलाकृतियों में पत्थर की प्रतिमाओं तथा प्राचीन वास्तुखण्डों के अतिरिक्त मिट्टी के खिलौनों का भी समावेश होता है। इन सबका प्रमुख प्राप्ति स्थान मथुरा शहर और उसके आसपास का क्षेत्र है। वर्तमान मथुरा शहर को देखने से स्पष्ट होता है कि यह सारा नगर टीलों पर बसा है। इसके आसपास भी लगभग 10 मील के परिसर में अनेक टीले हैं। इनमें से अधिकतर टीलों के गर्भ से माथुरी कला की अत्युच्च कोटि की कलाकृतियां प्रकाश में आयी हैं।


कंकाली टीला, भूतेश्वर टीला, जेल टीला, सप्तर्षि टीला आदि ऐसे ही महत्त्व के स्थान हैं। इन टीलों के अतिरिक्त कई कुंओं ने भी अपने उदरों में मूर्तियों को आश्रय दे रखा है। मुसलमानों के आक्रमण के समय विनाश के डर से बहुधा मूर्तियों को उनमें फेंक दिया जाता था। इसी प्रकार यमुना के बीच से अनेक प्रकार की प्रतिमाएं प्राप्त हुई हैं। महत्त्व की बात तो यह है कि जहां कुषाण और गुप्त काल में अनेक विशाल विहार, स्तूप, मन्दिर तथा भवन विद्यमान थे, वहां उनमें से अब एक भी अवशिष्ट नहीं है, सबके सब धराशायी होकर पृथ्वी के गर्भ में समा गये हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

यह लेख: "मथुरा की मूर्ति कला" (1965) लेखक:- श्री नील कण्ठ पुरुषोत्तम जोशी

  1. वामनपुराण, 34.44; 35.38।
  2. वासुदेवशरण अग्रवाल, Pre-Kushana Art of Mathura, TUPHS.,भाग 6,खण्ड़ 2,पृष्ठ 89
    1. परखम से प्राप्त यक्ष-स.स.00सी. 1
    2. बरोद् से प्राप्त यक्ष -स .स.00सी.23
    3. मनसादेवी यक्षिणी
    4. नोह यक्ष -भरतपुर के पास
    5. पलवल यक्ष-लखनऊ संग्रहालय संख्या ओ. 107
    6. श्री रत्नचन्द्र अग्रवाल द्वारा नोह से प्राप्त नवीन छोटा सा यक्ष
  3. कृष्णदत्त बाजपेयी,मथुरा का देवनिर्मित बौद्ध स्तूप, श्री महावीर स्मृतिग्रंथ,खण्ड़ 1,1848-49, पृ. 188-91। नीलकण्ठ पुरुषोत्तम जोशी, जैन स्तूप और पुरातत्त्व,वही,पृ. 183-87।
  4. एस.वी.देव, History of Jaina Monachism, पृ. 99
  5. के. डी. बी. काड्रिंगटन,Mathura of Gods, मार्ग,खण्ड 9,संख्या 2,मार्च 1956,पृ. 41-42
  6. मथुरा संग्रहालय संख्या 36.2663; 00.के 1। प्रभामण्डल को इस रूप में लेखक द्वारा ही प्रथम पहचाना गया है।
  7. लखनऊ संग्रहालय संख्या जी.215
  8. श्री कीफर ने प्रतिपादित किया है,विस्तृत अर्थ में इस पद में कला की उन सभी शैलियों का समावेश होगा जो सोवियत तुर्किस्तान से सारनाथ( उत्तर प्रदेश) तक फैले हुए विशाल कुषाण साम्राज्य में प्रचलित थी। इस अर्थ में बल्ख की कला ,गांधार की यूनानी बौद्ध कला, सिरकप (तक्षशिला) की कुषाणकला तथा मथुरा की कुषाणकला का बोध होगा। - देखिये सी.एम.कीफर, Kushana Art and the Historical Effigies of Mat and Surkh Kotal,मार्ग, खण्ड 15,संख्या 2,पृ.44।

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मूर्ति_कला_मथुरा&oldid=592532" से लिया गया