मुकुट बिहारी लाल भार्गव  

मुकुट बिहारी लाल भार्गव
मुकुट बिहारी लाल भार्गव
पूरा नाम मुकुट बिहारी लाल भार्गव
जन्म 30 जून, 1903
जन्म भूमि उदयपुर, राजस्थान
मृत्यु 18 दिसम्बर, 1980
मृत्यु स्थान जयपुर, राजस्थान
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि राजनीतिज्ञ
पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
पद लोकसभा सांसद (प्रथम, द्वितीय, तृतीय)
अन्य जानकारी मुकुट बिहारी लाल ने स्वतंत्रता के बाद तीन चुनावों में अजमेर निर्वाचन क्षेत्र का लोक सभा में प्रतिनिधित्व किया था।

मुकुट बिहारी लाल भार्गव (अंग्रेज़ी: Mukat Behari Lal Bhargava, जन्म- 30 जून, 1903, उदयपुर; मृत्यु- 18 दिसम्बर, 1980, जयपुर) सामाजिक कार्यकर्ता, भारतीय राजनीतिज्ञ, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य तथा 1951 से 1967 तक लोक सभा के सदस्य थे। उन्हें संविधान सभा का भी सदस्य चुना गया था। मुकुट बिहारी लाल ने स्वतंत्रता के बाद तीन चुनावों में अजमेर निर्वाचन क्षेत्र का लोक सभा में प्रतिनिधित्व किया था।

परिचय

राजस्थान के प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता मुकुट बिहारी लाल भार्गव का जन्म 30 जनवरी सन 1903 को राजस्थान की उदयपुर रियासत में हुआ था। इलाहाबाद विश्वविद्यालय से एम. ए. और एल. एल. बी. करने के बद उन्होंने 1927 में बेवर में वकालत शुरू की। सी. आर. दास, मोतीलाल नेहरू और महात्मा गाँधी के प्रभाव से वे राजबंदियों के मुकदमे निर्भय होकर अपने हाथ में लिया करते थे। 1930 में वे कांग्रेस में सम्मिलित हो गये। ‘व्यक्तिगत सत्याग्रह’ और ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ में उन्होंने जेल की सज़ाएँ भोगीं। 1946 में मुकुट बिहारी लाल भार्गव केंद्रीय असेम्बली और संविधान सभा के सदस्य चुने गए थे। स्वतंत्रता के बाद उन्होंने तीन चुनावों में अजमेर निर्वाचन क्षेत्र का लोक सभा में प्रतिनिधित्व किया। स्वतंत्रता से पूर्व राजस्थान की रियासतों में प्रतिनिधि शासन की स्थापना के लिए भी वे प्रयत्नशील रहे। प्राचीन भारतीय सभ्यता और संस्कृति के समर्थक भार्गव जी लोक सभा में प्रभावशाली वक्ता के रूप में जाने जाते थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अजमेर के मुकुट बिहारी लाल भार्गव भी थे संविधान सभा के सदस्य (हिंदी) ajmernama.com। अभिगमन तिथि: 23 जुलाई, 2017।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मुकुट_बिहारी_लाल_भार्गव&oldid=632007" से लिया गया