महेश भूपति  

महेश भूपति
महेश भूपति
पूरा नाम महेश श्रीनिवास भूपति
जन्म 7 जून 1974,
जन्म भूमि बेंगलोर (कर्नाटक)
अभिभावक सी. जी. के. भूपति
पति/पत्नी श्वेता जयशंकर
कर्म भूमि भारत
खेल-क्षेत्र टेनिस
पुरस्कार-उपाधि 'अर्जुन पुरस्कार' (1996), 'पद्मश्री' (2001), अमेरिकन कालिजस्ट टूर्नामेंट, 1994
प्रसिद्धि टेनिस
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख कर्णम मल्लेश्वरी
कोच एनरिको पिपनो
अन्य जानकारी 'महेश भूपति' ने 2002 में अलग-अलग जोड़ियों के साथ पांच युगल खिताब जीते और युगल मुकाबले में तीसरे स्थान पर रहा। इस वर्ष अपने कैरियर में सबसे अच्छा प्रदर्शन करते हुए 56 मैच जीते।

महेश भूपति (अंग्रेज़ी: Mahesh Bhupathi, जन्म- 7 जून, 1974, बैंगलौर, कर्नाटक), भारतीय खिलाड़ी हैं, जिन्होंने टेनिस में लिएडर पेस के साथ युगल मुकाबलों में शानदार सफलता अर्जित की है। इनका पूरा नाम महेश श्रीनिवास भूपति है। भूपति को 1996 में ‘अर्जुन पुरस्कार’ दिया गया तथा 26 मार्च, 2001 को लिएंडर पेस के साथ भारत सरकार द्वारा पद्मश्री सम्मान प्रदान किया गया।

परिचय

महेश भूपति का जन्म 7 जून, 1974, को बैंगलौर, कर्नाटक), में हुआ था। इनका पूरा नाम 'महेश श्रीनिवास भूपति' है। भूपति ने टेनिस में लिएडर पेस के साथ युगल मुकाबलों में शानदार सफलता अर्जित की है। इनके पिता जी का नाम सी. जी. के. भूपति है। दाहिने हाथ के इस खिलाड़ी की लम्बाई 6 फुट दो इंच है। उसका निवास मस्कट, ओमान तथा भारत में बैंगलौर है। टेनिस का खेल उनके परिवार के लिए कोई नया नहीं है। महेश के पिता जी टेनिस के खिलाड़ी और डेविस कप टीम के सदस्य रह चके है। भूपति के कोच एनरिको पिपनो हैं। इनको बम्बईया फिल्में देखना बहुत पसन्द है तथा फिल्मों की डी.वी.डी अपने साथ लेकर चलते है। उनकी रैंक युगल खेल में नम्बर 1 है। उसके शौक नेट-सर्फिंग और क्रिकेट खेलना है। उन्होनें वर्ष 2002 में मॉडल श्वेता जयशंकर से विवाह हुआ था।

यह कहना गलत नहीं होगा कि कलकत्ता की तेजी (लिएंडर पेस) और बैंगलौरताकत (महेश भूपति) के मिलते ही टेनिस की दुनिया में धमाल हो गया और जोड़ी ने 1999 में दुनिया की हर जोड़ी के छक्के छुड़ा दिए। लिएंडर ने 1996 में भूपति के साथ युगल वर्ग का ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने की भविष्यवाणी की थी, तब उनका अच्छा-खासा मजाक बनाया गया और उन्हें छोटा मुंह बड़ी बात कहा गया क्योंकि उस समय इनकी जोड़ी विश्व क्रम में 80 वें क्रम पर थी। परन्तु दोनों ने हिम्मत नहीं हारी और सफलता के शिखर पर चढ़ते चले गए।

फ्रेंच व विंबलडन खिताब

इसके पूर्व किसी भारतीय जोड़ी का एक या दो चक्र जीतना ही बहुत बड़ी बात समझी जाती थी। परन्तु लिएंडर और महेश भूपति की जोड़ी ने आठ ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंटों में से सात के सेमीफाइनल में प्रवेश किया, फिर उसके बाद पेस की कही बात सच साबित हुई जब इस युगल जोड़ी ने 1999 के फ्रेंच व विंबलडन खिताब जीते। ग्रैंड स्लैम के पहले पड़ाव आस्ट्रेलियाई ओपन में भी वह फाइनल में कड़े संघर्ष में हारी। महेश भूपति के बारे में कहा जाता है कि वह लिंएडर पेस के विपरीत अन्तर्मुखी व संवेदनशील इंसान हैं। उनमें जबर्दस्त पेशेवर परिपक्वता है।

भूपति ने ऑल अमेरिका का एकल व युगल खिताब 1995 में जीता था। अली हमदेह के साथ जोड़ी बनाकर 1995 में एन.सी.सी.ए. की युगल चैंपियनशिप जीती तब उन्होंने युगल खिलाड़ी के रूप में नं. 1 तथा एकल खिलाड़ी के रूप में नं. 3 रैंक पाई। वह भारतीय डेविस कप टीम के 1995 से ही सदस्य हैंं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महेश भूपति का जीवन परिचय (हिंदी) कैसे और क्या। अभिगमन तिथि: 05 अक्टूबर, 2016।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=महेश_भूपति&oldid=630087" से लिया गया