मलयालम भाषा  

मलयालम द्रविड़ भाषा परिवार के दक्षिण द्रविड़ उपसमूह की भाषा है। मलयालम का विकास तमिल की किसी पश्चिमी बोली से हुआ, या फिर आदि-द्रविड़ की एक शाखा से, जिससे आधुनिक तमिल का भी विकास हुआ। इस भाषा का प्राचीनतम प्रमाण लगभग 830 ई. का एक अभिलेख है। आरंभ में संस्कृत शब्दों के व्यापक अंतर्वाह ने मलयालम लिपि (ग्रंथ लिपि से उत्पन्न, जो स्वयं ब्राह्मी लिपि से पैदा हुई) को प्रभावित किया।

शब्द ध्वनि और लिपि

इसमें द्रविड़ ध्वनियों के साथ सभी संस्कृत ध्वनियों के लिए भी अक्षर है। इस भाषा को लिखने के लिए कोलेलुट्टू (शलाका लिपि) का भी इस्तेमाल होता है, जिसकी उत्पत्ति तमिल लेखन प्रणाली से हुई है। तमिल ग्रंथ लिपि का भी उपयोग होता है।

व्याकरण

  • सामान्य द्रविड़ भाषाओं की तरह इसके उपवाक्य में कर्ता - कर्म - क्रिया का शब्दक्रम होता है।
  • इसमें कर्ता-कर्म-कारक चिह्न होते हैं; लेकिन अन्य द्रविड़ भाषाओं के विपरीत इसमें समापिका क्रिया का रुपांतरण पुरुष, वचन व लिंग के बजाय सिर्फ़ काल के अनुरूप होता है।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मलयालम_भाषा&oldid=612392" से लिया गया