बुला चौधरी  

बुला चौधरी
बुला चौधरी
पूरा नाम बुला चौधरी चक्रवर्ती
जन्म 2 जनवरी, 1970
जन्म भूमि कलकत्ता
कर्म भूमि भारत
खेल-क्षेत्र तैराकी
पुरस्कार-उपाधि अर्जुन पुरस्कार’ (1990), ध्यानचंद लाइफटाइम एचीवमेंट (2003), 'जिब्राल्टर जलडमरूमध्य (स्पेन)' (2000)
प्रसिद्धि भारतीय तैराकी
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी 'बुला चौधरी' ने पाँचो महाद्वीप के सातों समुद्र तैर कर पार किए हैं और उन पर अपनी जीत हासिल की है तथा इनको ‘अर्जुन पुरस्कार’ से सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें ‘जल परी’ की उपाधि दी जा चुकी है तथा उन्होंंने मात्र 9 वर्ष की आयु में राष्ट्रीय तैराकी चैंपियनशिप जीती।

बुला चौधरी (अंग्रेज़ी: Bula Choudhury, जन्म- 2 जनवरी, 1970, कलकत्ता), भारतीय महिला खिलाड़ी हैं, जिन्होंने पांचो महाद्वीप के सातों समुद्र तैर कर पार किए हैं और उन पर अपनी जीत हासिल की है। बुला चौधरी को ‘अर्जुन पुरस्कार’ से सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें ‘जल परी’ की उपाधि दी जा चुकी है। 2003 में उन्हें ‘ध्यानचंद लाइफटाइम एचीवमेंट’ अवॉर्ड भी दिया गया है। वह सुर्खियों में तब आईं, जब उन्होंने मात्र 9 वर्ष की आयु में राष्ट्रीय प्रतियोगिता जीत ली। उन्होंने अपनी आयु वर्ग की सभी प्रतियोगिताएं जीत कर एकसाथ छह स्वर्ण पदक जीत लिए।

परिचय

बुला चौधरी का जन्म 2 जनवरी,1970 को कलकत्ता) मेंं हुआ था। इनका पूरा नाम बुला चौधरी चक्रवर्ती है। वे एक ऐसी कुशल तैराक हैं, जिन्होंने लम्बी दूरी की तैराकी के साथ-साथ प्रतियोगात्मक तैराकी में भी नाम कमाया है। वह सुर्खियों में तब आईं, जब उन्होंने मात्र 9 वर्ष की आयु में राष्ट्रीय प्रतियोगिता जीत ली। उन्होंने अपनी आयु वर्ग की सभी प्रतियोगिताएं जीत कर एकसाथ छह स्वर्ण पदक जीत लिए। अपने 24 वर्षों के कैरियर में बुला चौधरी सात समुद्र और पांचों महाद्वीपों के जलडमरूमध्य को पार करने वाली विश्व की पहली महिला बन गईं। उन्होंने अपना यह विशिष्ट मुकाम तब पूर्ण किया जब 24 अगस्त, 2004 को उन्होंने श्रीलंका में तलाईमन्नार से तमिलनाडु के घनुष्कोटि तक की पाल्क स्ट्रेट की 40 कि.मी. दूरी 13 घंटे 54 मिनट में तैरकर तय की। उस समय वह 34 वर्ष की थीं। उनकी तैराकी के समय समुद्र बहुत विकराल हो गया था। तेज हवाएं चल रही थीं। एक किलोमीटर तक उन्हें बारिश का भी सामना करना पड़ा।

बुला ने बताया- ”मेरी एक बार प्रधानमंत्री से मुलाकात हुई थी। उन्होंने मुझसे कहा था- ‘यू आर द रोल मॉडल ऑफ इंडियन वुमैन (आप भारतीय महिलाओं के लिए एक आदर्श हैं)।’ मैं उनके कथन को सदैव याद रखती हूँ और जितना संभव होता है युवा तैराकों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहती हूँ।”

गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड

बुला ने 1989 में इंग्लिश चैनल तैर कर पार किया था, फिर अपनी इस तैराकी को दोहराते हुए 1999 में पुन: इंग्लिश चैनल पार किया। वह दो बार इंग्लिश चैनल पार करने वाली प्रथम एशियाई महिला बन गईं।

फिर वह लंबी दूरी की तैराकी करने के लिए कमर कस कर तैयार हो गईं। उन्होंने तय किया कि वह लंबी दूरी की तैराकी करके रिकॉर्ड बनाएंगी। उन्होंने अगस्त 2000 को जिब्राल्टर जलडमरूमध्य (स्पेन) पार की। उनकी इस तैराकी के वक्त उनके पति तथा कोच संजीव चक्रवर्ती तथा दस वर्षीय पुत्र सर्बूजी भी उनके साथ कोलंबो आए थे। बुला चौधरी के अनुसार ”यह तैराकी सातों समुद्रों में सबसे कठिन थी, सभी भारतीयों की शुभकामनाओं से मैं यह दूरी पार कर सकी और ‘गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड’ में स्थान पा सकी।” उनकी इस तैराकी हो सहारा इंडिया ने स्पांसर किया था।

2001 में इटली का तिरानियन समुद्र पार किया। फिर 2002 में ही उन्होंने अमेरिका में केटेलिना चैनल पार किया। 2003 में उन्होंने न्यूजीलैंड में कुक्स जलडमरूमध्य पार किया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बुला चौधरी का जीवन परिचय (हिंदी) कैसे और क्या। अभिगमन तिथि: 28 सितम्बर, 2016।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बुला_चौधरी&oldid=616390" से लिया गया