बिलसड़  

बिलसड़ एटा ज़िला, उत्तर प्रदेश का ऐतिहासिक स्थान है। इस स्थान पर गुप्त सम्राट कुमारगुप्त के शासन काल 96 गुप्तसंवत[1] का एक स्तंभ-लेख प्राप्त हुआ है।[2]

  • यहाँ से प्राप्त स्तंभ-लेख में ध्रुवशर्मन द्वारा, स्वामी महासेन (कार्तिकेय) के मंदिर के विषय में किए गए कुछ पुण्य कार्यों का विवरण है- सीढ़ियों सहित प्रतोली या प्रवेशद्वार का निर्माण, सत्र या दान-शाला की स्थापना और अभिलेख वाले स्तंभ का निर्माण।
  • संभवत: चीनी यात्री युवानच्वांग ने इस स्थान का 'विलोशना' या 'विलासना' नाम से उल्लेख किया है।
  • युवानच्वांग इस स्थान पर 642-643 ई. में आया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. =415 ई.
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 630 |
  • ऐतिहासिक स्थानावली | विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बिलसड़&oldid=343867" से लिया गया