बहमनी वंश  

(बहमनी राज्य से पुनर्निर्देशित)


मुहम्मद बिन तुग़लक़ के शासन काल के अन्तिम दिनो में दक्कन में 'अमीरान-ए-सादाह' के विद्रोह के परिणामस्वरूप 1347 ई. में 'बहमनी साम्राज्य' की स्थापना हुई। दक्कन के सरदारों ने दौलताबाद के क़िले पर अधिकार कर' इस्माइल' अफ़ग़ान को' नासिरूद्दीन शाह' के नाम से दक्कन का राजा घोषित किया। इस्माइल बूढ़ा और आराम तलब होने के कारण इस पद के अयोग्य सिद्ध हुआ। शीघ्र ही उसे अधिक योग्य नेता हसन, जिसकी उपाधि 'जफ़र ख़ाँ' थी, के पक्ष में गद्दी छोड़नी पड़ी। जफ़र ख़ाँ को सरदारों ने 3 अगस्त, 1347 को 'अलाउद्दीन बहमनशाह' के नाम से सुल्तान घोषित किया। उसने अपने को ईरान के 'इस्फन्दियार' के वीर पुत्र 'बहमनशाह' का वंशज बताया, जबकि फ़रिश्ता के अनुसार- वह प्रारंभ में एक ब्राह्मण गंगू का नौकर था। उसके प्रति सम्मान प्रकट करने के उद्देश्य से शासक बनने के बाद बहमनशाह की उपाधि ली। अलाउद्दीन हसन ने गुलबर्गा को अपनी राजधानी बनाया तथा उसका नाम बदलकर 'अहसानाबाद' कर दिया। उसने साम्राज्य को चार प्रान्तों- गुलबर्गा, दौलताबाद, बरार और बीदर में बांटा। 4 फ़रवरी, 1358 को उसकी मृत्यु हो गयी। इसके उपरान्त सिंहासनारूढ़ होने वाले शासको में फ़िरोज शाह बहमनी ही सबसे योग्य शासक था।

बहमनी वंश के शासक
शासक शासन काल
अलाउद्दीन बहमन शाह प्रथम 1347-1358 ई.
मुहम्मद बहमनी शाह प्रथम 1358-1373 ई.
मुज़ाहिद बहमनी 1373-1377 ई.
दाऊद बहमनी 1378 ई.
मुहम्मद बहमनी शाह द्वितीय 1378-1397 ई.
ग़यासुद्दीन बहमनी 1397 ई.
शम्सुद्दीन बहमनी 1397 ई.
फ़िरोज शाह बहमनी 1397-1422 ई.
अहमदशाह प्रथम 1422-1435 ई.
अलाउद्दीन अहमदशाह द्वितीय 1435-1457 ई.
हुमायूँ शाह बहमनी 1457-1461 ई.
निज़ाम शाह बहमनी 1461-63 ई.
मुहम्मद बहमनी शाह तृतीय 1463-82
महमूद शाह बहमनी 1482-1518 ई.
कलीमुल्ला बहमनी शाह 1526-1538 ई.

विजयनगर से युद्ध

बहमनी सल्तनत की अपने पड़ोसी विजयनगर के हिन्दू राज्य से लगातार अनबन चलती रही। विजयनगर राज्य उस समय तुंगभद्रा नदी के दक्षिण और कृष्णा नदी के उत्तरी क्षेत्र में फैला हुआ था और उसकी पश्चिमी सीमा बहमनी राज्य से मिली हुई थी। विजयनगर राज्य के दो मज़बूत क़िले मुदगल और रायचूर बहमनी सीमा के निकट स्थित थे। इन क़िलों पर बहमनी सल्तनत और विजयनगर राज्य दोनों दाँत लगाये हुए थे। इन दोनों राज्यों में धर्म का अन्तर भी था। बहमनी राज्य इस्लामी और विजयनगर राज्य हिन्दू था। बहमनी सल्तनत की स्थापना के बाद ही उन दोनों राज्यों में लड़ाइयाँ शुरू हो गईं और वे तब तक चलती रहीं जब तक बहमनी सल्तनत क़ायम रही। बहमनी सुल्तानों के द्वारा पड़ोसी हिन्दू राज्य को नष्ट करने के सभी प्रयास निष्फल सिद्ध हुए, यद्यपि इन युद्धों में अनेक बार बहमनी सुल्तानों की विजय हुई और रायचूर के दोआब पर विजयनगर के राजाओं के मुक़ाबले में बहमनी सुल्तानों का अधिकार अधिक समय तक रहा।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बहमनी_वंश&oldid=357150" से लिया गया