फ़ित्ना  

फ़ित्ना अरबी भाषा का एक शब्द है, जिसका अर्थ परीक्षण या जांच है। इस्लामी अर्थ में विधर्मी बग़ावत, विशेषकर मुस्लिम समुदाय (656-661 ई.) में पहला बड़ा आंतरिक संघर्ष, जिसने सुन्नी और शिया के बीच गृहयुद्ध और राजनीतिक फूट को जन्म दिया था।

मक्का के उमय्या परिवार के सदस्य तीसरे ख़लीफ़ा उस्मान[1] ने अधिकारिक नियुक्तियों में मक्का के अपने परिवार का पक्ष लेकर मुहम्मद के नज़दीकी अनुयायियों, मदीना के मुसलमानों से वैर मोल लिया। मिस्र के सिपाहियों द्वारा उस्मान की हत्या (17 जून 656) ने मक्कावासियों को बदले के लिए उकसाया और जब मदीरावासियों द्वारा मनोनीत चौथे ख़लीफ़ा और मुहम्मद के दामाद अली इसे पूरा करने में असफल रहे, तो विरोध का रुख़ उनके ख़िलाफ़ हो गया। मुहम्मद की विधवाओं में से एक, आयशा और पैग़ंबर के प्रमुख सहयोगियों तलहा और अज़-जुबैर, की सेनाओं और अली की सेना के बीच हुए युद्ध ने, जिसे ऊंटों की लड़ाई (दिसं. 656) भी कहते हैं। अली की स्थिती को अस्थायी रूप से सुरक्षित कर दिया, लेकिन इससे गृहयुद्ध की शुरुआत हो गई। मक्का के एक और उमय्या तथा सीरिया के प्रशासन मुअविया ने उस्मान की मृत्यु के प्रतिशोध की मांग की और अली के ख़लीफ़ा के पद पर बैठने पर प्रश्न उठाया। सिफ़िन की लड़ाई (657) में उनका संघर्ष, जिसे अदरू (656) में हुई पंचायत में सुलझाने का प्रयास किया गया, घोर अनर्थकारी था: इसने अली की सेना में फूट डाल दी, उनके कुछ अनुयायियों[2] ने ऐसे मामले में मानवीय मध्यस्थता को स्वीकार करने से इनकार कर दिया, जिसके बारे में वे मानते थे कि अल्लाह ही इसका निर्णय कर सकता है। जब मध्यस्थों ने अली को आधिकारिक ख़लीफ़ा घोषित नहीं किया, तो उनकी स्थिति अधिक कमज़ोर हो गई; इसके परिणामस्वरूप इस्लाम में अपरिवर्तनीय विभाजन हुआ तथा शियात अली[3] की स्थापना हुई, जिसमें अली के राजनीतिक सहयोगी थे, जिन्होंने अंतत: अपनी राजनीतिक मांगों को धार्मिक विश्वास का रूप दिया। अली और उसके वंशजों को दैवी रूप से ख़लीफ़ा से पद पर मुहम्मद का उत्तराधिकारी नियुक्त किया गया था। इस नतीजे से सशक्त होकर मुअविया ने मिस्र पर क़ाब्ज़ा कर लिया और अली के गढ़ इराक़ पर आक्रमण शुरू कर दिया। यह खुली लड़ाई अंतत: 661 में समाप्त हुई, जब अली की हत्या हो गई और मुअविया ने पहले उमय्या ख़लीफ़ा के रूप में अपना शासन शुरू किया, लेकिन सुन्नी और शियाओं के बीच धार्मिक फूट बढ़ती गई।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. शासनकाल, 644-656
  2. ख़वारिज
  3. अली का दल

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=फ़ित्ना&oldid=497998" से लिया गया