फ़ख़रुद्दीन अली अहमद  

फ़ख़रुद्दीन अली अहमद
फ़ख़रुद्दीन अली अहमद
पूरा नाम फ़ख़रुद्दीन अली अहमद
जन्म 13 मई, 1905
जन्म भूमि पुरानी दिल्ली
मृत्यु 11 फरवरी, 1977
मृत्यु स्थान भारत
मृत्यु कारण हृदयाघात
अभिभावक कर्नल जलनूर अली अहमद
पति/पत्नी आबिदा बेगम
संतान परवेज (पुत्र), समीना (पुत्री), दुरेज (पुत्र)
क़ब्र संसद मार्ग पर स्थित 'ग्रीन डोम्ड जामा मस्जिद'
नागरिकता भारतीय
पार्टी कांग्रेस
पद भारत के पाँचवें राष्ट्रपति
कार्य काल 24 अगस्त, 1974 से 11 फ़रवरी, 1977
शिक्षा स्नातक
विद्यालय कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
भाषा हिन्दी, अंग्रेज़ी
जेल यात्रा 13 अप्रैल, 1940 को गिरफ़्तार करके एक वर्ष के लिए जेल में डाल दिया। रिहा होने कुछ समय पश्चात् इन्हें सुरक्षा कारणों से पुन: गिरफ़्तार कर लिया गया। इस बार इन्हें अप्रैल, 1945 तक साढ़े तीन वर्ष जेल भुगतनी पड़ी।
विशेष योगदान फ़ख़रुद्दीन अली अहमद का राष्ट्रपति निर्वाचित होना विभिन्न अल्पसंख्यक समुदायों की जीत थी। इससे देश में साम्प्रदायिक सौहार्द बढ़ा और मुस्लिम वर्ग में बढ़ता असंतोष कम हुआ।

फ़ख़रुद्दीन अली अहमद (अंग्रेज़ी: Fakhruddin Ali Ahmed, जन्म: 13 मई, 1905 - मृत्यु: 11 फ़रवरी, 1977) भारतवर्ष के पाँचवें राष्ट्रपति (नाम के अनुसार फ़ख़रुद्दीन अली अहमद पाँचवें राष्ट्रपति और कार्यकाल के अनुसार यह छठे राष्ट्रपति) के रूप में जाने जाते हैं। इनका राष्ट्रपति चुना जाना भी भारतवर्ष की धर्मनिरपेक्ष संवैधानिक व्यवस्था का एक ज्वलंत प्रमाण है। 'मुस्लिम वर्ग को स्वतंत्र भारत में सम्मान नहीं प्राप्त हो सकेगा' इस कल्पित आधार के कारण भारत का विभाजन किया गया था। मुस्लिम लीग और उसके नेताओं ने सत्ता लोलुपता के कारण परस्पर सौहार्द्र को भी भारी क्षति पहुँचाई थी। लेकिन फ़ख़रुद्दीन अली अहमद के रूप में जब दूसरा मुस्लिम व्यक्ति भारत का राष्ट्रपति बना तो यह स्पष्ट हो गया कि भारतीय संवैधानिक धर्मनिरपेक्षता का विश्व में कोई सानी नहीं है।

जन्म एवं परिवार

फ़ख़रुद्दीन अली अहमद का जन्म 13 मई, 1905 को पुरानी दिल्ली के हौज़ क़ाज़ी इलाक़े में हुआ था। इनके पिता का नाम 'कर्नल जलनूर अली अहमद' और दादा का नाम 'खलीलुद्दीन अहमद' था। फ़ख़रुद्दीन अली अहमद के दादा गोलाघाट शहर के निकट कदारीघाट के निवासी थे, जो असम के सिवसागर में स्थित था। इनके दादा का निकाह उस परिवार में हुआ था, जिसने औरंगज़ेब द्वारा असम विजय के बाद औरंगज़ेब के प्रतिनिधि के रूप में असम पर शासन किया था। फ़ख़रुद्दीन अली अहमद के पिता तब अंग्रेज़ सेना में इण्डियन मेडिकल सर्विस के तहत कर्नल के पद पर थे। इन्हें एक घटना के कारण असम छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा था।

एक दिन फ़ख़रुद्दीन अली अहमद के पिता कर्नल जलनूर अली अपने साथियों तथा कर्नल सिबरान बोरा के साथ शिलांग क्लब के एक समारोह में यूरोपियन अतिथियों से अलग स्थान पर बैठे हुए थे। तभी दो असमी कर्नलों ने समारोह का यह कहते हुए बहिष्कार कर दिया कि उन्हें समारोह में पृथक् रखा गया है। इससे समारोह में व्यवधान पड़ा और कुछ कुपित यूरोपियन अधिकारियों ने कर्नल जलनूर अली अहमद का स्थानांतरण उत्तर पश्चिमी इलाके में कर दिया। स्थानांतरण के बाद जलनूर अली अहमद को लोहारी के नवाब के क़रीब आने का मौक़ा प्राप्त हुआ, जब यह दिल्ली में थे। उस परिचय के बाद नवाब जियाउद्दीन अहमद के साथ कर्नल जलनूर अली अहमद की निकटता काफ़ी बढ़ गई। फिर 1900 में इनका निकाह नवाब साहब की पोती के साथ पढ़ दिया गया लोहारु स्टेट के नवाब की पौत्री के साथ निकाह होना बेहद सम्मान की बात थी। इनकी बेगम का नाम रुकैय्या था। फ़ख़रुद्दीन अली अहमद इनके ही पुत्र हैं। फ़ख़रुद्दीन अली अहमद के चार भाई और पाँच बहनें थीं। यह अपने माता-पिता की चौथी संतान थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=फ़ख़रुद्दीन_अली_अहमद&oldid=619483" से लिया गया